मैनपुरी, जागरण संवाददाता। उच्च न्यायालय से अग्रिम जमानत लेकर न्यायालय में उपस्थित होने आए वाहन चोरी के आरोपित को बरनाहल पुलिस ने गिरफ्तार करने की कोशिश की तो अधिवक्ता भड़क गए। इस दौरान जमकर बवाल हुआ। पुलिस बैकफुट पर आ गई। हंगामा देख पुलिस कर्मी आरोपित को बिना गिरफ्तार किए वापस लौट गए।

थाना करहल के गांव नगला कुरियन निवासी गौरव उर्फ महाकाल के खिलाफ थाना बरनाहल में कार चोरी का मामला दर्ज है। गिरफ्तारी से बचने के लिए गौरव ने उच्च न्यायालय की शरण ली थी। कोर्ट ने गौरव को अग्रिम जमानत देने के साथ ही संबंधित न्यायालय में उपस्थित होने का आदेश दिया था, जिस पर गौरव ने शुक्रवार को अपने अधिवक्ता अवधेश यादव के माध्यम से कोर्ट में आवेदन किया।

आरोप है कि गौरव कोर्ट के बाहर खड़ा था तभी बरनाहल पुलिस ने उसे खींचकर अपने वाहन में डालने की कोशिश की। गौरव ने विरोध किया तब तक उनके अधिवक्ता ने देख लिया। पुलिस कर्मियों को बताया का गौरव को उच्च न्यायालय ने अग्रिम जमानत दे दी है। इसके बावजूद भी पुलिस कर्मी नहीं माने तो हंगामा शुरू हो गया। वकीलों ने पुलिस कर्मियों को जमकर खरीखोटी सुनाई। उच्च न्यायालय के आदेश की अवमानना की कार्रवाई करने की धमकी दी तो पुलिस कर्मी वहां से चले गए। गौरव के मुताबिक थानाध्यक्ष बरनाहल अशोक कुमार, उप निरीक्षक सुधीर कुमार उनकी हत्या करना चाहते हैं। गौरव ने एसओ और उप निरीक्षक के अलावा सिपाही पुष्पेंद्र सिंह, रविद्र सिंह व पुलिस वाहन चालक के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप