जासं, मैनपुरी: जिले में कोरोना संक्रमण ने अपनी रफ्तार बढ़ा दी है। 24 घंटे में 181 लोग पाजिटिव पाए गए हैं। इसे मिलाकर एक्टिव केस की संख्या 544 पहुंच गयी है। बढ़ते संक्रमण पर प्रशासनिक स्तर से अब भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।

कोरोना के संक्रमण को लेकर अबकी जिला प्रशासन पूरी तरह से शांत बैठा है, सिर्फ कागजी निर्देश ही दफ्तर-दफ्तर दौड़ाए जा रहे हैं। प्रोटोकाल के उल्लंघन रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। चौबीस घंटे में जिले में 181 कोरोना मरीज सामने आए हैं। इनमें दो डीएम आवास में और दो लोक निर्माण विभाग कार्यालय में संक्रमित मिले हैं। जीआरपी में एक और सर्किट हाउस में एसआइटी का एक कर्मचारी भी संक्रमित पाया गया है। सीएमओ डा. पीपी सिंह का कहना है कि सभी संक्रमित मरीज होम आइसोलेट किए गए हैं। अभी तक किसी में भी गंभीर लक्षण देखने को नहीं मिले हैं। कोविड प्रोटोकाल के तहत अपना आइसोलेशन पीरियड पूरा करने के बाद मरीज ठीक होकर वापस भी आ रहे हैं। चौबीस घंटे में होम आइसोलेशन से 10 मरीजों को ठीक होने के बाद बाहर आने की अनुमति दी गई है। हालांकि, इन्हें कोविड प्रोटोकाल में ही रहना होगा। सचिव और प्रधान ने कराया वैक्सीनेशन

संसू, घिरोर: जिलाधिकारी व प्रशासन के निर्देशानुसार बीडीओ यदुवीर सिंह के नेतृत्व में विकास खंड के सचिवों के द्वारा प्रधानों के सहयोग से ग्राम पंचायतों में वैक्सीनेशन कराया गया। खंड विकास अधिकारी के निर्देश पर ग्राम पंचायत अधिकारी टीका लगवाने में स्वास्थ विभाग की मदद कर रहे हैं। अपनी-अपनी ग्राम पंचायतों में आशा और एएनएम की मदद कर लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवा रहे हैं। शिविर के दौरान 15 से 18 वर्ष तक के बालक-बालिकाओं को कोरोना वैक्सीन लगवाई गई। सचिव गौरव कुमार, गौरव यादव, अरविद कुमार, प्रधान धर्मपाल, सुनीता, मनीष, आशा रमा ने ग्रामीणों का वैक्सीनेशन कराया गया।

Edited By: Jagran