जासं, मैनपुरी : संक्रामक बीमारियों की रोकथाम और बुखार से संबंधित मामलों के सर्विलांस के लिए स्वास्थ्य विभाग ने कवायद तेज कर दी है। जिले में नौ टीम गठित कर 18 कर्मचारियों को सर्विलांस की जिम्मेदारी सौंपी गई है। ये टीमें प्रतिदिन कम से कम दो गांव में पहुंचकर वहां की जानकारी जुटा रही हैं।

अगस्त से जिले में बुखार का प्रकोप बना हुआ है। अब, मौसमी प्रभाव की वजह से संक्रामक बीमारियां भी तेज होने लगी हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग का पूरा जोर ग्रामीण क्षेत्रों पर है। जिला मलेरिया विभाग द्वारा पीएचसी की कुल नौ टीम बनाई गई हैं। प्रभारी जिला मलेरिया अधिकारी एसएन सिंह का कहना है कि प्रत्येक टीम में दो-दो सदस्य शामिल किए गए हैं। टीम के सदस्य प्रतिदिन कम से कम दो गांव का भ्रमण कर रहे हैं। सर्विलांस के दौरान गांवों में पहुंचकर वहां निगरानी समितियों से संपर्क कर बुखार के मरीजों की जानकारी जुटाई जा रही है। संदिग्ध मरीजों की सूचना मिलने के बाद उनकी अलग से सूची तैयार रिपोर्ट जिला मुख्यालय को भेजी जाती है। यदि मरीज मिल रहे हैं तो पीएचसी और सीएचसी के विशेषज्ञों को भी इसकी जानकारी उपलब्ध कराई जाती है। स्थिति असामान्य मिलने पर स्वास्थ्य टीम पहुंचकर मरीजों को उपचार दे रही है।

सीएमओ डा. पीपी सिंह का कहना है कि सर्विलांस से बड़ी राहत मिल रही है। निगरानी समितियों के साथ ग्राम प्रधानों की भी मदद ली जा रही है। स्थानीय लोगों से भी अपील की गई है कि वे बुखार से संबंधित मामलों को छिपाने की बजाय उसकी जानकारी स्वास्थ्य अधिकारियों को दें।

Edited By: Jagran