जागरण संवाददाता, मैनपुरी: दैनिक जागरण का आओ रोपें अच्छे पौधे, लगातार नये मुकाम हासिल कर रहा है। गुरुवार को मैनपुरी पुलिस ने अभियान में सहभागी बनकर आठ हजार से अधिक पौधे लगाने का संकल्प लिया था। शुक्रवार को कुरावली के स्वराज देवी मेमोरियल एजुकेशन ग्रुप ने 11 हजार पौधे रोपने का फैसला लिया। स्कूल निदेशक समाजसेवी आलोक कुमार गुप्ता ने पौधों की सुरक्षा और देखभाल का पूरा इंतजाम करने की भी योजना तैयार की है।

दैनिक जागरण की पौधारोपण की मुहिम में सहभागिता का कारवां दिनों-दिन आगे बढ़ रहा है। पुलिस विभाग, नगर निकायों के साथ समाजसेवी और विभिन्न संगठन भागीदार बन रहे हैं। शुक्रवार को जिले के प्रमुख शिक्षण संस्थान स्वराज देवी मेमोरियल पब्लिक स्कूल के निदेशक आलोक कुमार गुप्ता भी सहभागी बन गए। आलोक कुमार गुप्ता ने बताया कि दैनिक जागरण का यह अभियान, वर्तमान समय की आवश्यकता है। पर्यावरण की क्षति और बढ़ते प्रदूषण से प्रकृति का चक्र प्रभावित हुआ है, मानव स्वास्थ्य के लिए भी परेशानी खड़ी हो रही है। वह इस पावन कार्य में सहभागी बन 11 हजार पौधे लगवाएंगे। इसमें सर्वाधिक आक्सीजन देने वाले पौधों को शामिल किया जाएगा। ये लगाए जाएंगे पौधे

समाजसेवी आलोक गुप्ता ने बताया कि वह पीपल, नीम, बरगद, आम, जामुन, गुलमोहर आदि के 11 हजार पौधे मंगवा रहे हैं। इन पौधों को लगाने के बाद उनकी वह स्वयं देखभाल की निगरानी करेंगे। जो पौधे वह सड़क किनारे लगवाएंगे, सभी की सुरक्षा के लिए ब्रिक गार्ड बनवाएंगे। इन स्थानों पर होगा पौधारोपण

11 हजार पौधों में से मुख्य रूप से नहर पुल के गैलानाथ से लेकर घिरोर रोड नहर पुल तक करीब तीन किलोमीटर लंबे मार्ग पर सड़क किनारे एक हजार पौधों का रोपण होगा। इसी तरह जीटी रोड से नगला ऊसर जाने वाले मार्ग पर लगभग 1000 पौधे लगेंगे। शेष पौधों को नगला ऊसर मोड़ पर खाली पड़ी 30 बीघा भूमि, ग्राम ़िखरना, नौरंगपुर, नगला किन्नर, सुजानपुर सहित लगभग एक दर्जन ग्रामों में लगवाया जाएगा। कुरावली नगर के मोहल्ला पठानान में मस्जिद के पास भी पौधारोपण होगा। लाकडाउन में भी की थी जरूरतमंदों की मदद

समाजसेवी आलोक गुप्ता ने बीते साल लाकडाउन के समय भी जरूरतमंदों की मदद की थी। अपने स्कूल की आधा दर्जन बसों को प्रवासी मजदूरों को कुरावली से बेवर छिबरामऊ, कन्नौज, कानपुर, इटावा, लखनऊ पहुंचाया था। करीब 20 दिन तक लगातार उनकी बसों दौड़ती रही थीं। प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने से लेकर भोजन तथा उनके बच्चों के लिए दूध की व्यवस्था खुद भी की थी। इसके अलावा गरीब परिवारों को प्रतिदिन करीब 200 पैकेट राशन सामग्री कर वितरण किया था। सब्जी, बिस्किट, ब्रेड आदि भी जरूरतमंदों को पहुंचाए थे। इसके अलावा वह पूर्व में भी पौधारोपण करते रहे हैं। बीते तीन साल में 500 से अधिक पौधे लगवा चुके हैं।

Edited By: Jagran