जासं,मैनपुरी: यूपी बार काउंसिल के निर्देश पर जिले की अदालतों में वकीलों ने न्यायिक कार्य नहीं किया। वकीलों की हड़ताल से अदालतों में सन्नाटा पसरा रहा। वादकारी भी भटकते नजर आए। हड़ताल के कारण जमानत के मामलों में वादकारी निराश नजर आए। वकील अपनी मांगों को जल्द से जल्द पूरा कराना चाहते है।

गुरुवार को कलक्ट्रेट की जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश यादव की अध्यक्षता बैठक कर वकीलों ने न्यायिक कार्य करने विरत रहने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आए दिन वकीलों पर हमले हो रहे है। पुलिस प्रभावी कार्रवाई नहीं कर रही है। इस दौरान सौरभ पांडेय, रोहित दीक्षित संजय सक्सैना, अशोक कुमार दीक्षित, कौशलेंद्र सिंह, योगेश दुबे मौजूद थे।

दीवानी में बार एसोसिएशन अध्यक्ष अजय कृष्ण पांडेय की अध्यक्षता में बैठक हुई। सचिव बृजेंद्र सिंह ने बताया कि बैठक में लखनऊ के अधिवक्ता शिशर त्रिपाठी और प्रयागराज के अधिवक्ता सनाउल्ला खां के हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार करने और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई, पीड़ित परिवारों को 50-50 लाख रुपया आर्थिक सहायता देने की मांग की गई है। इसके साथ ही 600 करोड़ रुपया फंड अधिवक्ता कल्याण निधि न्यासी समिति को प्रदान करने, प्रदेश में एडवोकेट्स प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने, प्रदेश के सभी न्यायालयों के चारों ओर दीवार बनवाने की मांग की गई है। इस दौरान अधिवक्ता चंद्रभान सिंह यादव, सौरभ यादव, संतोष शाक्य, संजीव शर्मा, दिनेश दीक्षित दीपेश श्रीवास्तव, राहुल कुमार शाक्य, विश्वजीत सिंह मौजूद रहे। तहसील भोगांव, तहसील करहल, करहल किशनी, तहसील कुरावली, तहसील घिरोर के अधिवक्ता भी हड़ताल पर रहे। इंटरनेशनल एडवोकेट ऑर्गनाइजेशन के जिलाध्यक्ष देवेंद्र सिंह ने प्रदेश में एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस