संसू, बरनाहल: पुलवामा हमला में बलिदान हुए रामवकील की पत्नी स्वजन के साथ आमरण अनशन पर हैं। गुरुवार का उनके साथ युवा जागृति सेवा समिति के पदाधिकारी भी आ गए। दूसरे दिन गुरुवार को कोई भी अधिकारी बलिदानी की पत्नी की पीड़ा जानने नहीं पहुंचा। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जरूर स्वास्थ्य परीक्षण किया।

क्षेत्र के विनायकपुर निवासी बलिदानी रामवकील की पत्नी गीता देवी व भाई रामनरेश और भतीजा शिवकुमार स्मारक के रास्ते की मांग को लेकर बुधवार को आमरण अनशन पर बैठ गए थे। उनका अनशन दूसरे दिन भी जारी रहा। स्वजन का आरोप है कि उन्होंने रास्ते में आ रहे खेत का सौदा कर लिया था, परंतु अब खेत स्वामी बैनामा नहीं कर रहा है। जालसाजी करने वाले पर जल्द कार्रवाई की जाए। अन्य मांगों को भी जल्द पूरा किया जाए। गुरुवार को स्मारक स्थल पर बैठे शहीद के स्वजन के स्वास्थ्य की जांच करने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बरनाहल से डा. हनीफ खान अपनी टीम के साथ पहुंचे, जहां उन्होंने सभी लोगों का ब्लड प्रेशर सामान्य बताया। हालांकि कोई अन्य अधिकारी नहीं पहुंचा। बलिदानी की पत्नी ने कहा कि मांगें पूरी होने तक अनशन जारी रहेगा। वहीं युवा जागृति सेवा समिति के अध्यक्ष विक्रम सिंह वैस ने कहा हम सभी लोग शहीद के स्वजन के साथ हैं।

Edited By: Jagran