जासं, मैनपुरी: शहर के दीवानी रोड पर संचालित आवासीय वृद्धाश्रम के अधीक्षक पर गाज गिर गई है। सचिव का कहना है कि काम में रुचि नहीं दिखाने और व्यवस्थाओं को नहीं सहेजने पर उनको पद से हटा दिया गया। हालांकि माना जा रहा है कि राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह के निरीक्षण के दौरान मिली खामियों के चलते ही यह कदम उठाया गया है। वहीं व्यवस्थाओं को सुधारने की कवायद भी शुरू कर दी गई हैं।

दीवानी रोड पर संचालित आवासीय वृद्धाश्रम की सचिव कमलेश कुमारी ने शनिवार को यहां के अधीक्षक आशीष कुमार को हटा दिया। अब उनके स्थान पर प्रदीप कुमार को अधीक्षक बनाया गया है। सचिव ने बताया कि हटाए गए अधीक्षक एक सप्ताह से यहां नहीं आ रहे थे, जिससे समस्याएं पैदा होने लगी थीं।

इधर, वृद्धाश्रम में ओवरहॉलिग का दौर चला। परिसर के अंदर बाथरूम के पानी को निकालने के लिए पक्की नाली बनाने का काम शुरू हो गया है। गीजर लगाए जा रहे हैं। यहां देखरेख करने वालीं क्रांतिबाला ने बताया कि परिसर में चार गीजर लगाए गए हैं। वृद्धों को ठंड से बचाने के लिए चार बड़े हीटर भी लगवाए गए हैं। सुरक्षा के लिहाज से परिसर और बरामदे के अलावा अन्य स्थानों को कवर करने के लिए सीसीटीवी लग चुके हैं। गर्म कपड़े भी बांटने के लिए रखे हुए हैं। अभी मानसिक रूप से चार दिव्यांग भी प्रशासन ने यहां पर भेजे हैं।

उपाध्यक्ष पर साधा निशाना:

संस्था की सचिव कमलेश कुमारी ने महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह के निरीक्षण करने के अंदाज पर निशाना साधा। कहा कि आते ही कर्मचारियों के फोन जब्त कर लिए गए, किसी वृद्ध से बात नहीं की। आरोप बेबुनियाद हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस