जासं, मैनपुरी: इस बार कई क्षेत्रों में धान का उत्पादन कम मात्रा में हुआ है। लेकिन बासमती प्रजाति ताज और 1509 को बीते साल से बेहतर भाव मिल रहा है। शहर की मंडी में अब हर रोज हजारों कुंतल धान बिक्री को आ रहा है। बीते साल 15- 16 सौ तक बिकने वाली इन प्रजातियों का धान इस बार 24 सौ ज्यादा कीमत पर खरीदा जा रहा है। जिले में 65 हजार हेक्टेयर में इस बार धान की अगैती और पिछैती रोपाई हुई थी। शुरुआत में कम बारिश और बाद में अच्छी बारिश से इस फसल को फायदा भी हुआ। पकने के बाद अब दस दिन से यह फसल मंडी में बिक्री को आने लगी है। सूख गए धान की मंडी में रोज खरीदारी हो रही है तो भाव भी हर रोज बढ़ रहा है। शुरुआत में 23 सौ से बिकने वाले माल के भाव अब 25 सौ के आसपास आ गए हैं।

-

करहल क्षेत्र में कम उत्पादन-

करहल के गांव गोपालपुर से शुक्रवार को मंडी में धान बेचने आए किसान रामजीलाल ने बताया कि इस बार माल कम निकला है। वजह पूछने पर बताया कि क्षेत्र में जहां खेत नीचे हैं, वहां ऐसा हो रहा है। तैयार फसल देर में हुई बारिश से फूल गिरने से भी असर आ रहा है। इस बार एक बीघा में तीन कुंतल तक धान निकला है, जबकि बीते साल यह साढ़े तीन कुंतल था।

-

आलू खेतों में ठीक-

बेवर के गांव जमौरा से आए किसान देवलाल ने बताया कि जिन खेतों में आलू खोदाई के बाद धान रोपा जाता है, वहां उत्पादन ठीक निकल रहा है। बेवर और भोगांव में खेत ऊपर हैं।

-

सूखा माल, मिल रहा भाव-

शहर की मंडी में आढ़त का संचालन करने वाले बीनू बंसल ने बताया कि इस बार बासमती प्रजाति ताज और 1509 सूखी होने से ठीक भाव मिल रहा है। बीते साल यह प्रजाति 15-16 सौ रुपये कुंतल बिकी, जबकि इस बार यह 25 सौ तक बिक रही हैं। इस बार खरीदारी को मिलर्स भी सक्रिय हैं।

-

धान का उत्पादन कुछ क्षेत्रों में कम निकल रहा है, इसकी वजह बारिश और जमीन हो सकती है। अगैती धान में ऐसा हो सकता है। वैसे बेवर में कराई क्राप कटिग में धान का उत्पादन बीते साल से अच्छा निकला। - सूर्यप्रताप सिंह, जिला कृषि अधिकारी।

Edited By: Jagran