जासं, मैनपुरी : मौसम परिवर्तन के साथ बुखार के मामले बढ़ने लगे हैं। ईंट भट्ठों पर काम करने वाले मजदूर बीमार पड़ रहे हैं। कई दिनों से बुखार से बीमार एक भट्ठा मजदूर की अस्पताल पहुंचते ही बुखार और पेट दर्द से मौत हो गई।

मौसम में बदलाव अपने साथ बीमारियां लेकर आया है। जिला अस्पताल में इन दिनों सबसे ज्यादा बुखार के मरीज पहुंच रहे हैं। ईंट भट्ठों पर काम करने वाले मजदूर मौसमी बदलाव की चपेट में आ रहे हैं। पिछले तीन दिन में पांच भट्ठा मजदूर बुखार व पेट दर्द की शिकायत लेकर इमरजेंसी पहुंच चुके हैं। मंगलवार को श्रीराम भदौरिया भट्ठा पर काम करने वाले बिहार निवासी कालू (35) पुत्र जुगेशा को स्वजन बुखार और पेट दर्द की शिकायत पर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। साथ आए लोगों ने बताया कि वह तीन दिनों से बुखार से परेशान था। सोमवार की रात से पेट में दर्द की शिकायत की थी।

सीएमओ डा. एके पांडेय का कहना है कि मौसम में परिवर्तन बीमारियां साथ लाता है। स्वास्थ्य विभाग की टीमों के साथ रेपिड रिस्पांस टीमों को अब भट्ठों पर भी भेजा जाएगा ताकि यहां काम करने वाले मजदूरों का भी स्वास्थ्य परीक्षण हो सके। उन्होंने मजदूरों से भी अपील करते हुए वैक्सीनेशन कराने और संदेह होने पर कोरोना जांच कराने की भी अपील की है। इन बातों का रखें ख्याल

- उमस भरी गर्मी के बीच जाने से बचें।

- हल्के और ढीले कपड़े पहनें ताकि पसीना सूखता रहे।

- धूप से आने के बाद सीधे पानी न पिएं और न ही हाथ-मुह धोएं।

- कोरोना से हाल ही में ठीक हुए लोगों का धूप और गर्मी में रहना नुकसानदेह हो सकता है।

- हल्का बुखार होने पर तत्काल चिकित्सक की मदद लें।

- दिन भर में कम से छह लीटर पानी का सेवन करें।

Edited By: Jagran