जासं, मैनपुरी: जिले में कोरोना वायरस के केस मिलने से पुलिस प्रशासन की नींद उड़ गई है। स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह अलर्ट हो गया है। इस तरह के केस तलाशने और परिवार के सदस्यों की जानकारी जुटाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने करीब आधा सैकड़ा टीमें दौड़ा दी हैं। शहर में तीन किमी दायरे में हर घर में टीम पहुंचेगी। आशंका होने पर टीम के सदस्य संबंधित की स्क्रीनिंग भी करेंगे।

कोरोना वायरस संक्रमित मामले मिलने के बाद गुरुवार को शहर की सुरक्षा के लिए पहल शुरू कर दी गई है। सीएमओ कार्यालय से आरबीएस के चिकित्सकों के साथ पैरामेडिकल, आयुष चिकित्सक, स्टाफ नर्स और फार्मेसिस्ट की 50 टीमें गुरुवार को सर्वे कार्य के लिए रवाना कर दी गई। इनको महमूदनगर या सिकंदरपुर से सटे तीन किमी के दायरे में आने वाले हर एक घर की जानकारी जुटानी होगी। परिवार में सभी सदस्यों के नाम, पते, मोबाइल नंबर और आधार नंबर की जानकारी उपलब्ध करानी होगी। प्रत्येक तीन-तीन दिन के बाद सभी की मॉनीटरिग कराई जाएगी। अगर, किसी को कोई लक्षण मिलता है तो उन्हें तत्काल क्वारंटाइन किया जाएगा। खासकर बुखार के मरीजों का डाटा जुटाया जा रहा है।

दी गई सुरक्षा सामग्री: प्रत्येक टीम के सदस्य को तीन-तीन ग्लब्स और मास्क उपलब्ध कराए गए हैं। ये एक दिन के लिए होंगे। अगले दिन दोबारा इतना ही सामान दिया जाएगा। वहीं तीन सदस्यों के बीच सेनेटाइजर की एक बॉटल भी दी गई है, जिसे दो दिनों तक प्रयोग करना होगा।

जिम्मेदारों ने ही तोड़ा नियम: सीएमओ कार्यालय परिसर में मास्क, सेनेटाइजर और ग्लब्स लेने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। यहां शारीरिक दूरी का पालन ताक पर रख दिया। जिन्हें दूसरों को समझाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, खुद वे ही सुरक्षा नियमों का मखौल बनाते दिखे। टोकने पर कई ने यह कहकर बात को टाल दिया कि हम स्टाफ वाले हैं। हमें कायदा पता है।

पालिका के 400 कर्मियों को सेनेटाइजेशन की जिम्मेदारी: जासं, मैनपुरी: मैनपुरी में कोरोना की दस्तक के बाद सतर्कता बढ़ा दी गई है। पालिका के सभी 400 कर्मचारियों को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। सेनेटाइजेशन के काम में 16 टीमों को तैनात किया गया है। इन्हें क्षेत्रवार जिम्मेदारी दी गई है।

घिरोर में कोरोना के चार मामलों के मिलने के बाद अब प्रशासन जिले के दूसरे इलाकों की सुरक्षा में जुट गया है। शहर को सुरक्षित रखने के लिए नगर पालिका प्रशासन के सफाई कर्मियों की टीमों को अलर्ट कर दिया गया है। गुरुवार को आगरा गेट चौकी परिसर में डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने सफाई इंस्पेक्टर शिशुपाल सिंह को सभी कर्मचारियों की मदद लेने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हर कर्मचारी को अलग-अलग वार्ड की जिम्मेदारी सौंप दी जाए। सफाई इंस्पेक्टर का कहना है कि पालिका में सफाई कर्मियों की 16 टीमों को स्प्रे मशीनों के साथ लगाया गया है। ये टीमें सिर्फ सेनेटाइजेशन का काम ही करेंगी। इसके अलावा पांच टीमों को फॉगिग मशीनों के साथ तैनात किया गया है। इन टीमों की मॉनीटरिग भी कराई जा रही है।

हर अधिकारी की गाड़ी भी होगी सेनेटाइज:दिन भर अधिकारी क्षेत्र में अपनी गाड़ियों को लेकर दौड़ रहे हैं। ऐसे में खतरा बढ़ गया है। लिहाजा, टीम को जिम्मेदारी सौंपी गई है कि वे गाड़ियों को भी सेनेटाइज करेंगे ताकि जिम्मेदारों की सुरक्षा को किसी प्रकार का खतरा न हो सके। टीम ने पहले दिन डीएम, एसपी के साथ ड्यूटी पर चल रहीं पुलिस की गाड़ियों को भी सेनेटाइज किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस