जासं, मैनपुरी: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन गरीबों को मुफ्त राशन वितरण की व्यवस्था की है। उन गरीबों के राशन में बड़ी धांधली सामने आई है। उन्हें सड़ा-गला गेहूं वितरित किया जा रहा है। एक कोटेदार के पास ऐसे दर्जनों कार्डधारक खराब गेहूं वापस करने पहुंचे, तो हड़कंप मच गया। पड़ताल में पता चला है कि जिले के कई कोटेदारों के पास ऐसे गेहूं की आपूर्ति हुई है। खास बात यह है कि गेहूं का बारदाना नया है। बोरा खोलने पर ऊपर सही गेहूं निकला, जबकि अंदर खराब है। जिले में मुफ्त राशन लेने वाले सवा तीन लाख पात्र हैं।

सड़े-गले गेहूं के वितरण का मामला शुक्रवार को सामने आया। शहर के हरिदर्शन नगर स्थित राशन की दुकान पर ऐसे कई उपभोक्ताओं ने खराब गेहूं की शिकायत की। कुछ ने लेने से मना कर दिया तो कई लौटाने भी आए। गेहूं सड़ा हुआ था। कोटेदार ने कई कार्डधारकों को गेहूं का बारदाना दिखाया, वह नया था। चर्चा आम हुई, तो पता चला कि कई अन्य कोटेदारों द्वारा भी ऐसे ही गेहूं का वितरण किया गया है। आशंका जताई जा रही है कि नए बारदाने में जानबूझकर खराब गेहूं को भरा गया है। कोटेदारों का कहना है कि गोदाम प्रभारियों के दबाव में यही गेहूं उठाना पड़ा। सड़े गेहूं की आपूर्ति की चर्चा अफसरों के बीच भी आम हो गई, लेकिन किसी अधिकारी ने इस और ध्यान देना उचित नहीं समझा।

जिला खाद्य वितरण अधिकारी उदित नारायण सिंह का कहना है कि अभी ऐसा मामला जानकारी में नहीं है। यदि कोई शिकायत करता है तो जांच कराएंगे।

------------------------

पूरे मामले की जानकारी कराता हूं। सड़ा-गला गेहूं वितरित होना गंभीर मामला है। जांच कराएंगे।

-महेंद्र बहादुर सिंह, डीएम, मैनपुरी

Edited By: Jagran