जासं, मैनपुरी: विकास कार्यो में भ्रष्टाचार, मनमानी और अफसरों के आदेश की अवहेलना के आरोप में दो ग्राम विकास अधिकारी (वीडीओ) पर गाज गिर गई। डीएम के आदेश पर जिला विकास अधिकारी ने उन्हें निलंबित कर दिया। मामले की जांच अन्य विभाग के अधिकारियों को सौंपी गई है। इस कार्रवाई से विभाग में खलबली मची हुई है।

ग्राम विकास अधिकारी राजीव कुमार राना के खिलाफ दर्जनों शिकायतें हैं। पूर्व में तबादला होने पर वह आदेश के खिलाफ कोर्ट चले गए थे। हाल ही में डीएम प्रमोद कुमार उपाध्याय ने उनसे बरनाहल में तैनाती का समय पूछा तो उन्होंने सही जानकारी नहीं दी। बताया था कि ढाई साल से ही हैं, जबकि वह पांच साल से यहां तैनात थे। इसके अलावा ग्राम पंचायतों का रिकॉर्ड न देने जैसी शिकायतें आई तो डीएम ने जांच के आदेश दिए थे।

जांच में पाया गया कि वीडीओ राजीव कुमार राना जिन ग्राम पंचायतों का कार्यभार देख रहे थे, वहां शौचालय अधूरे मिले। यही नहीं उन पर आधा दर्जन ग्राम पंचायतों का चार्ज था। ग्राम पंचायत हटने के बाद भी वह रिकॉर्ड नहीं सौंप रहे थे। ग्राम पंचायतों में कराए गए काम का रिकॉर्ड भी वह उच्चाधिकारियों के निर्देश पर संबंधित को नहीं दे रहे थे। कैलाशपुर, बीनेपुर, बलपुरा, कनकपुर, डालूपुर, केशवपुर जैसी ग्राम पंचायतों में तैनाती के दौरान आदेशों की अवहेलना के भी आरोप लगे थे। इसी के चलते उन्हें निलंबित करते हुए जांच खंड विकास अधिकारी घिरोर को सौंपी गई है।

इसी तरह देवामई में तैनात वीडीओ ओमशरण शाक्य को भी निलंबित किया गया है। इन पर ग्राम पंचायतों में धरातल की बजाय कागजों में काम कराकर धनराशि हड़पने का आरोप है। जिला विकास अधिकारी प्रवीण कुमार राय ने बताया कि ग्राम पंचायत देवामई में 14वें वित्त व राज्य वित्त आयोग से काम कराए गए थे। डीएम ने चार जुलाई को गांव में चौपाल लगाई तो ग्रामीणों ने वीडीओ और प्रधान की शिकायत की थी। इस पर डीपीआरओ स्वामी दीन, डीआरडीए एई कमल और परियोजना निदेशक एससी मिश्र को जांच के आदेश दिए थे। जांच में गांव में दो कार्य कागजों में तो पूर्ण हो गए, लेकिन धरातल पर कुछ नहीं था। इनमें एक काम मिट्टी का तो दूसरा सीसी रोड का था। वीडीओ और प्रधान पर 2.63 लाख की धनराशि गबन का आरोप है। वीडीओ को निलंबित करते हुए प्रधान के खिलाफ जांच डीपीआरओ को सौंपी गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस