संसू, भोगांव: ट्रेनों का संचालन बेहतर बनाने के लिए शुरू की गई इलेक्ट्रानिक इंटरलाकिग की प्रक्रिया का काम पूरा होते ही मोटा स्टेशन से आटोमेटिक सिस्टम से ट्रेनों का आवागमन शुरू करा दिया गया। आधुनिक मशीनों को आपरेट कर अब ट्रेनें गुजारी जाएंगी। स्मार्ट सिग्नल के इशारे पर ट्रेनों का संचालन स्टेशन स्टाफ करेगा।

शिकोहाबाद-फर्रुखाबाद रेल रूट पर रेलवे प्रशासन सिग्नल सिस्टम में बदलाव कर रहा है। सालिड स्टेट इंटरलाकिग सिस्टम से ट्रेनों को चलाने के लिए मोटा स्टेशन पर आधुनिक मशीनों को लगाने का काम शुरू हुआ था। रेलवे के सिग्नल व दूर संचार विभाग की टीमों ने शुक्रवार को इस काम पूरा कर ट्रायल शुरू कर दिया। अधिकारियों की मौजूदगी में इलैक्ट्रानिक इंटरलाकिग सिस्टम से सिग्नलिग व प्वाइंट बनाने की प्रक्रिया की शुरुआत शुक्रवार की रात की गई। कालिदी एक्सप्रेस को सबसे पहले इस सिस्टम से संचालित कर मोटा स्टेशन को पास कराया गया। वरिष्ठ मंडल अभियंता अलीगढ़ संकेत एवं दूर संचार प्रदीप सोनी, मंडल अभियंता प्रशांत द्विवेदी, वरिष्ठ मंडल अभियंता टूंडला रन सिंह गोदारा, वरिष्ठ खंड अभियंता सिग्नल टूंडला अरविद यादव ने पैनल से सिग्नल सिस्टम को अपनी मौजूदगी में आपरेट कराकर कालिदी एक्सप्रेस को पास कराया। स्टेशन अधीक्षक मोटा हरीचरण मीणा ने बताया कि नए सिस्टम से ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया है।

रेल कर्मियों को समझाए आपरेटिग के तरीके

नए सिस्टम से ट्रेनों के चलने के बाद दो स्टेशनों के बीच पड़ने वाले सेक्शन में एक ट्रेन का संचालन होगा। सेक्शन सिग्नल ब्लाक प्रूविग एक्सल काउंटर से एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन के बीच ट्रेन संचालन की जानकारी जुटाई जाएगी। शनिवार को मोटा स्टेशन पर एसएसई आरके गुप्ता, एसएसइ टूंडला विवेक पांडेय व अवर अभियंता दीपक कौरारा की टीम ने स्टेशन प्रबंधक को नई मशीनों का आपरेटिग सिस्टम बताया।

टोकन सिस्टम होगा बंद

मोटा स्टेशन पर आधुनिक मशीनों और सिग्नल सिस्टम में बदलाव के बाद अब रेलवे प्रशासन भोगांव, कोसमा, नीम करोरी स्टेशनों पर इस सिस्टम को स्थापित करेगा। इस सिस्टम के प्रभावी होते ही ट्रेनों को गुजारने के लिए अब तक उपयोग में लाए जाने वाले टोकन सिस्टम बंद हो जाएगा।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप