संवाद सूत्र, भोगांव (मैनपुरी): छात्रा-दुष्कर्म हत्याकांड में एसआइटी की तहकीकात फिलहाल पूरी तरह विद्यालय पर केंद्रित हो गई है। शनिवार को भी दोपहर में पहुंचे एसआइटी सदस्य एसपी अजय कुमार दोपहर से रात तक वहीं डेरा डाले रहे। इस दौरान छात्रा की चार सहेलियों से भी अलग-अलग बातचीत की गई। माना जा रहा है कि उनसे छात्रा के अन्य के साथ व्यवहार और विद्यालय के माहौल को लेकर सवाल पूछे गए।

एसपी अजय कुमार शनिवार दोपहर करीब 12.30 बजे छात्रा के विद्यालय पहुंचे। इसके बाद स्टाफ और छात्र-छात्राओं से बातचीत का सिलसिला चलता रहा। एसपी ने कक्षा 11 व दसवीं की दो-दो छात्राओं को भी बुलाया। इनको छात्रा की सहेली बताया जाता है। हर छात्रा से करीब आधा घंटे तक अलग से बातचीत की गई। माना जा रहा है कि इन चारों से छात्रा के विद्यालय में व्यवहार, वह किस-किस से बात करती थी? किन पर भरोसा जताती थी? घटना से पहले उसका व्यवहार आदि की जानकारी ली गई। आने-जाने वालों का तीन माह का जुटाया ब्योरा

एसआइटी ने शनिवार को विद्यालय में आने-जाने वालों का ब्योरा तलब किया। विद्यालय के गेट पर हर आगुंतक की एंट्री की जाती है। एसपी ने सितंबर से नवंबर तक के एंट्री रजिस्टर चेक कराए। किस दिन कौन आया, किस गाड़़ी से आया, किससे मिलने आया? इसकी जानकारी ली गई। गेट के चौकीदार से भी सवाल-जवाब किए गए। साथ ही विद्यालय में आने वाली हर गाड़ी को रोककर एंट्री करने के निर्देश दिए। एसपी ने हिदायत दी कि भले ही किसी अधिकारी की गाड़ी आए, उसकी भी एंट्री रजिस्टर में की जानी चाहिए। पंचनामा के गवाहों से भी की बातचीत

एसआइटी प्रमुख व आइजी कानपुर मोहित अग्रवाल शनिवार शाम मैनपुरी लौट आए। उन्होंने ट्राजिंट हॉस्टल में छात्रा के शव के पंचनामे में गवाह विजय मिश्रा, सुशील कुमार पांडेय, आशीष पांडेय, श्याम पांडेय और आशुतोष पाठक से भी घटना के बारे में जानकारी ली। टीम ने विशेष तौर पर छात्रा के शरीर पर चोटों के निशान को लेकर सवाल किए गए। गवाह आशुतोष पाठक शहर से बाहर होने के कारण नहीं पहुंचे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021