जागरण संवाददाता, मैनपुरी: जिले में बुखार का प्रकोप तेज हो गया है। एक हफ्ते में 1348 मरीजों की स्लाइड तैयार कराई गई है। टायफाइड और मलेरिया के मरीजों की तादात में भरी इजाफा हुआ है। बदतर हालातों के बावजूद स्वास्थ्य विभाग चुप्पी साधे हुए है।

नौ सितंबर से 16 सितंबर तक मात्र एक सप्ताह में जिला अस्पताल में तीन हजार से ज्यादा बुखार के मरीज पहुंचे। इनमें से हालत खराब होती देख चिकित्सकों ने 1348 मरीजों को रक्त जांच कराने की सलाह दी। इन स्लाइडों में से 15 मरीजों में मलेरिया रोग की पुष्टि हुई। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. आरके ¨सह का कहना है कि मौसम के प्रभाव के कारण बुखार के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है।

मलेरिया और टायफाइड के मरीज सबसे ज्यादा आ रहे हैं। इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. आकांक्षा ¨सह का कहना है कि इमरजेंसी में भी मरीजों की भीड़ उमड़ रही है। बिस्तर भी कम पड़ रहे हैं। एक बिस्तर पर दो-दो मरीजों को भर्ती कर उपचार देना पड़ रहा है। लेकिन, न तो बिस्तर बढ़वाए जा रहे हैं और न ही मरीजों की मॉनीट¨रग के प्रबंध हैं।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आरके सागर का कहना है कि अस्पताल परिसर में बुखार के मरीजों की जांच के लिए अलग से कक्ष बनवाया गया है। इसके अलावा सेफ वार्ड में भी कुछ बिस्तर बढ़ावाकर वहां मरीजों को उपचार दिलाया जा रहा है।

Edited By: Jagran