अजीतगंज, संवादसूत्र। कर्ज में डूबे किसान की फसल पर ओले पड़े तो उसका हौसला टूट गया। दूसरी ओर साहूकार ने तकादा किया तो परेशान हो उठे। तनाव में आकर उन्होंने गले में फंदा लगाकर खुदकशी कर ली। घटना से घर में कोहराम मच गया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया है।

एलाऊ क्षेत्र के गांव किशोरपुर निवासी मनोज कुमार (35) खेतीबाड़ी कर अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे। उनके पास पांच बीघा जमीन है। बमुश्किल परिवार की गुजर बसर हो रही थी। दो वर्ष पहले फसल खराब हुई तो कर्ज लेकर फिर से खेतीबाड़ी में जुट गए। इसी बीच बड़ा पुत्र सड़क हादसे में घायल हो गया। हालत गंभीर होने के कारण इलाज में काफी खर्च हुआ। जिसके लिए मनोज को साहूकार से कर्ज लेना पड़ा था। इस बार गेहूं की फसल अच्छी थी। एक सप्ताह पहले उन्होंने खेत की ¨सचाई की। उसी दिन तेज हवा के साथ ओले पड़ गए। जिससे उनकी फसल बिछकर बर्बाद हो गई। परिजनों के मुताबिक फसल बर्बाद होने के कारण वे काफी परेशान थे। दूसरी ओर साहूकार ने तकादा शुरू कर दिया तो वे तनाव में आ गए। शुक्रवार शाम खाना खाकर घर में सो गए। सुबह पत्नी जागी तो बिस्तर पर नहीं दिखाई दिए। बाहर निकली तो पेड़ पर उनका शव लटका हुआ था। शव देखते ही घर में कोहराम मच गया। भीड़ जमा हो गई। परिजन घटना के पीछे कर्ज से परेशान होकर खुदकशी करने की बात कह रहे है।

परिजनों ने बताया कि मनोज पर पांच लाख रुपये कर्ज था। ग्रामीणों ने मनोज के परिजनों को सरकार से आर्थिक सहायता दिलाए जाने की मांग की है। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंच गई। इंस्पेक्टर एलाऊ प्रमोद पांडेय ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही मौत का कारण पता चल सकेगा। उसकी आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस