जासं, मैनपुरी: बुखार से भर्ती मरीजों की सेहत का हाल जानने के लिए डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने बुधवार की दोपहर स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ जिला अस्पताल का जायजा लिया। मरीजों से मिलकर उनकी सेहत का हाल जाना। बेहतर व्यवस्था और उपचार पर चिकित्सकों की पीठ भी थपथपाई।

बुखार से बिगड़े हालातों को काबू करने के लिए डीएम ने जिला अस्पताल की कमान स्वयं अपने हाथों में संभाली है। महीने भर से प्रतिदिन अस्पताल पहुंचकर स्थितियों की पड़ताल कर रहे हैं। बुधवार की दोपहर उन्होंने इनडोर में भर्ती मरीजों से बात की। यहां ज्यादातर मरीज बुखार से ही पीड़ित थे। भरोसा दिलाते हुए कहा कि वे जल्द स्वस्थ हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि जो भी मरीज भर्ती हैं, उन्हें बेहतर उपचार दिया जाए। रेफर करने से पहले विशेषज्ञ चिकित्सक को भी बुलाकर मरीज को प्राथमिक उपचार दिलाया जाए। डेंगू वार्ड में मच्छरदानी लगवाई जाएं ताकि मच्छरों को रोका जा सके। उन्होंने चिकित्सकों की पीठ थपथपाते हुए कहा कि अस्पताल के चिकित्सक और नर्सिंग स्टाफ द्वारा मरीजों की जिस प्रकार से देखरेख की जा रही है, वह आसपास के जिलों में भी नहीं है।

उन्होंने तीमारदारों से अपील करते हुए कहा कि वे मरीजों के पास बेवजह की भीड़ न लगाएं। कोविड प्रोटोकाल का पालन करें और मास्क लगाकर ही अस्पताल के अंदर आएं। डीएम ने सीएमएस को निर्देश देते हुए कहा कि प्रतिदिन भर्ती होने वाले और ठीक होने वाले मरीजों के संबंध में उन्हें जानकारी दी जाए। निरीक्षण के दौरान सीएमएस डा. अरविद कुमार गर्ग, अस्पताल प्रबंधक वरुणा पूनम, प्रभारी अधिकारी फार्मेसी ऋषि प्रकाश यादव उपस्थित थे।

Edited By: Jagran