जासं, मैनपुरी: चार माह से शयन अवस्था में विराजमान देव शनिवार को जागृत हो जाएंगे। देव जागृत होने के बाद शहनाई गूंज उठेगी। गुरुवार को देवोत्थान को लेकर घरों में तैयारियां होती रही। वहीं, पूजा में विशेष काम आने वाला गन्ना भी दस रुपये में बिका।

शुक्रवार को देवोत्थान एकादशी है। देवताओं के जाग्रत होने के बाद शादी और अन्य शुभ काम शुरू हो जाते हैं। शुक्रवार को मनाए जाने वाले इस त्योहार को लेकर शहर में खरीदारी का माहौल दिखा। गन्ना, सिघाड़ा और आलू, शकरकंदी की खूब बिक्री हुई। कासगंज के पटियाली तहसील के दरियावगंज से आए देवलाल ने बताया कि वह हर साल यहां गन्ना बेचने आते हैं। पिछले बार की तरह इस बार भी एक गन्ना की कीमत दस रुपये रखी है। गुरुवार को बाजार में सिघाड़े की कीमत 20 रुपया प्रति किलो और शकरकंदी भी इतने भाव में बेची गयी। देवोत्थान पर काम आने वाली इस सामग्री को खरीदने के लिए महिलाएं बाजार में मोलभाव करती दिखी।

-

धार्मिक कार्यक्रम की हुई तैयारियां

देवोत्थान पर भगवान के स्वरूपों को नई पोशाक पहनाने के लिए महिलाओं ने बाजार में खूब खरीदारी की। लड्डू गोपाल और दूसरे देवों के अलावा तुलसी-सालिग्राम के लिए भी नई पोशाकें खरीदी गई। निकलेंगी बरातें, लगेगा जाम

देवोत्थान पर बड़ा सहालग होने के चलते शहर के सभी मैरिज बुक हो चुके हैं। इसके अलावा शहर में घरों-खाली स्थानों पर भी शामियाने लगे हैं। सबसे ज्यादा मैरिज होम होने के कारण स्टेशन रोड पर जाम की स्थिति बनती है। ऐसे में शुक्रवार शाम ढलने के बाद यहां यातायात व्यवस्था गड़बड़ाने की आशंका है। इसके चलते पुलिस ने यहां अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती की है। मेकअप को मारामारी

विवाह समारोहों में सजने-संवरने के लिए भी बुकिग का हाउसफुल चल रही है। शहर के लगभग हर ब्यूटीशियन पर ब्राइडल मेकअप के लिए कई-कई बुकिग हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप