जासं, मैनपुरी : उपचार को लेकर महिला मरीज और चिकित्सक के बीच जमकर नोकझोंक हुई। लगभग आधा घंटे तक चले हंगामे की वजह से अस्पताल में अन्य मरीजों की भीड़ जमा हो गई। चिकित्सकों ने समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। इस मामले में दोनों पक्षों से कोई शिकायत नहीं की गई है। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि अगर शिकायत मिलती है तो जांच कराई जाएगी।

गुरुवार की दोपहर लगभग 12 बजे भोगांव कस्बा निवासी एक महिला अपनी पुत्री को साथ लेकर जिला अस्पताल उपचार कराने के लिए पहुंची। यहां कमरे में चिकित्सक के न मिलने पर वह दूसरे कमरे में चली गईं। यहां कुछ चिकित्सक बैठे हुए थे। किसी बात को लेकर महिला मरीज और चिकित्सक के बीच कहासुनी शुरू हो गई। कुछ ही देर में विवाद बढ़ गया और गाली-गलौज शुरू हो गई। महिला का आरोप था कि चिकित्सक द्वारा पूछने पर अभद्र भाषा का प्रयोग किया और उपचार का पर्चा उनके मुंह पर फेंक दिया। वहीं चिकित्सक का आरोप था कि महिला द्वारा अभद्रता की गई और उन्हें चप्पल फेंककर मारी। शोर सुनकर अस्पताल में मौजूद अन्य मरीजों की भीड़ लग गई। दूसरे चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों ने बीच-बचाव कर उन्हें शांत कराया। सीएमएस डा. अरविद कुमार गर्ग का कहना है कि अस्पताल में आने वाले ज्यादातर मरीज उत्तेजित होकर ही आते हैं। इस मामले में उन्हें किसी ने शिकायत नहीं दी है। अगर, शिकायत मिलती है तो मामले की जांच कराई जाएगी। महिला के साथ मारपीट, कार्रवाई की मांग

किशनी : क्षेत्र के गांव बल्लमपुर निवासी सुनीता देवी ने एसडीएम को भेजे शिकायती पत्र में कहा है कि गांव के आरोपित उसकी जमीन पर जबरन कब्जा करना चाहते हैं। इसी को लेकर आरोपितों ने 22 जुलाई को उसके साथ मारपीट की। महिला ने कार्रवाई की मांग की है। (संसू)

Edited By: Jagran