मैनपुरी (जागरण संवाददाता) । सप्ताह भर से खिली धूप बुधवार को अचानक धुमैली हो गई। सुबह से ही चल रही बादलों की लुका-छिपी दोपहर बाद बूंदाबांदी में बदल गई। आसमान में घिरी काली घटाओं के साथ बूंदाबांदी हुई तो तेज हवाओं ने दोबारा मौसम में ठंडक घोल दी। मौसम का बदला मिजाज देखकर किसान परेशान हैं।

बुधवार की सुबह से ही आसमान में बादलों ने अपना डेरा डाल रखा था। दिन में धूप खिली तो लोगों ने राहत की सांस ली, लेकिन दोपहर बाद मौसम तेजी से बदल गया। घटाओं ने सूरज की किरणों को ढंक लिया। देखते ही देखते तेज हवाओं के साथ हल्की बूंदाबांदी शुरू हो गई। अचानक हुए मौसम में बदलाव की वजह से कारोबार पर भी असर दिखाई दिया। होली के कारोबार में लगे दुकानदार बारिश की बूंदों से अबीर-गुलाल और दूसरी सामग्री को बचाने में जुट गए।

दुकानदारों का कहना है कि यदि बारिश होती है तो रंगपर्व पूरी तरह से फीका पड़ जाएगा। उधर मौसम के तेवरों को देखकर किसान सबसे ज्यादा परेशान हैं। गांव ललूपुर किसान रामेश्वर और बिछवां के गांव औरंग के फागूलाल का कहना है कि खेतों में गेहूं की बालियां तैयार हो चुकी हैं। अगर बारिश होती है तो फसल भीग जाएगी। तेज हवा और ओलावृष्टि से तो पूरी की पूरी पैदावार ही तबाह हो जाएगी। उधर बादलों को देख किसानों ने खेतों में पडे़ आलू और सरसों को समेटना भी शुरू कर दिया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस