जासं, मैनपुरी: शहर को सुंदर बनाने की मुहिम में अब लोक निर्माण विभाग ने भी जिम्मा संभाल लिया है। शुरुआत डिवाइडरों को बेहतर बनाने के साथ कराई जा रही है।

शहर में पूर्व सपा सरकार द्वारा ईशन नदी तिराहा से क्रिश्चियन तिराहा तक सड़क पर डिवाइडर बनवाए गए थे। वाहन चालकों को रात के अंधेरे में ये आसानी से दिखाई दे सकें, इसके लिए यहां रिफ्लेक्टर्स के साथ काला और पीला रंग पुतवाया गया था। लेकिन, स्थानीय लोगों द्वारा इन पर प्रचार सामग्री चस्पा करा दी गई। लगातार प्रचार सामग्री चस्पा कराने के कारण ये बदरंग हो चुके थे। अधिशासी अभियंता अनिल कुमार का कहना है कि स्वच्छ मैनपुरी अभियान के तहत इन पर नए सिरे से पुट्टी कराई जा रही है। दोबारा काली और पीली पट्टियों से रंग कराया जाएगा। रिफ्लेक्टर्स और कैट आइज भी लगवाई जाएंगी ताकि रात के अंधेरे में इनकी स्थिति का सही आभास हो सके। दोबारा जिस संस्था की प्रचार सामग्री चस्पा मिलेगी, उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए जुर्माना भी वसूला जाएगा।

सुबह-शाम लगेगी सड़कों पर झाडू, उठेगा कूड़ा

जासं, मैनपुरी: स्वच्छ मैनपुरी की थीम में अब पालिका प्रशासन की जिम्मेदारी भी तय कर दी गई है। सुबह-शाम शहर की हर एक सड़क पर झाडू लगा वहां से कचरा समेटा जाएगा। सफाई के नाम पर खानापूरी तो नहीं हो रही है, इसके लिए सफाई नायकों की टोलियां मॉनीटरिग करेंगी।

डीएम महेंद्र बहादुर सिंह की स्वच्छ मैनपुरी की थीम के साथ अब कार्यदायी संस्थाएं भी जुड़ने लगी हैं। शुरुआत नगर पालिका प्रशासन से की गई है। पालिका में लगभग छह सौ सफाई कर्मचारी हैं। इन सभी को सुबह-शाम अपने-अपने दायरे में आने वाली सड़कों पर झाडू लगाकर कचरे को इकट्ठा करना होगा। एक टीम कचरा समेटेगी तो दूसरी टीम एकत्र किए गए कचरे को कूड़ा गाड़ियों में भरकर अस्थायी डंपिग जोन तक पहुंचाएगी। कर्मचारी अपना काम कर रहे हैं या नहीं, इसका जायजा नायकों के हाथ होगा। फोटो खींचकर उन्हें विभागीय वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।

पालिका की गाड़ियां भरेंगी फर्राटा: डंपिग जोन पर डाले गए कचरे को नगर पालिका की गाड़ियों के माध्यम से ट्रांसपोर्ट नगर स्थित प्लांट तक पहुंचाया जाएगा। सबसे पहले उन सड़कों से सफाई की जाएगी जहां लोगों की आवाजाही सबसे ज्यादा होती है। स्टेशन रोड, राधा रमन रोड, रेलवे स्टेशन रोड, कचहरी रोड, तहसील मार्ग से पहले कचरा उठाया जाएगा। हर हाल में सुबह नौ बजे तक कचरे का उठान करा लिया जाएगा।

सड़कों के बाद आए डस्टबिन का नंबर: दुकानदारों द्वारा अपनी दुकानों के बाहर जो डस्टबिन रखवाए जाएंगे, पालिका की गाड़ियों के माध्यम से बाद में उनसे कचरा उठाया जाएगा। सड़कें गंदी न हों, इसके लिए पालिका को जगह-जगह पर बडे़ डस्टबिन रखवाने होंगे। गाड़ियों के न आने पर इनमें कचरा फेंका जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस