जागरण संवाददाता, महोबा : सीएमओ कार्यालय में नौकरी दिलाने के नाम पर हुए 44 लाख के फर्जीवाड़ा का मुख्य आरोपित कथित ठेकेदार अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है। आरोपित की तलाश के लिए चार टीमों को लगाया गया है। यह टीमें गैर जनपदों में तलाश में जुटी हुई हैं।

स्वास्थ्य विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर हुए लंबे खेल में एक आरोपित विभाग के चौकीदार विष्णु प्रजापति को कोतवाली पुलिस ने पिछले दिनों हिरासत में लिया था। उसने पुलिस को बताया है कि मामले में मुख्य आरोपित के इशारे पर ही युवकों से पैसा जमा किया गया था। उसी के पास सारा रुपया भी है। मामले में करीब दस दिन पहले पुलिस ने दो आरोपित विष्णु प्रजापति और दिवाकर दत्त त्रिपाठी पर मुकदमा दर्ज कर लिया था। कबरई के मोहल्ला भगत सिंह नगर निवासी प्रेमनारायण और ईश्वरीदीन ने संपूर्ण समाधान दिवस में एसपी, सीएमओ से शिकायत की थी। कोतवाली प्रभारी बलराम सिंह ने कहा कि मुख्य आरोपित दिवाकर दत्त की तलाश के लिए चार टीमों को लगाया गया है। सर्विलांस टीमों को भी लगाया गया है।

Edited By: Jagran