महोबा, जागरण संवाददाता। Mahoba News चरखारी में इस समय किसानों को यूरिया और डीएपी खाद की जरूरत है। इन हालातों में समिति से खाद न मिलने के कारण किसान परेशान हैं। सोमवार को चरखारी के साधन सहकारी समिति में पूर्वाह्न 11 बजे तक ताला लगा होने और खुलने के बाद केवल खाता धारकों को ही खाद मिलने पर वहां उपस्थित किसानों ने नाराजगी जताई।

दोपहर को चरखारी-मुस्करा सड़क पर किसानों ने हंगामा करते हुए जाम लगा दिया। सचिव पर आरोप लगाया कि वह किसानों को खाद न देकर कालाबाजारी कर रहे हैं। सूचना पर पहुंची एसडीएम ने किसानों को समझाया। सचिव को निर्देश दिए कि खाता धारकों के साथ अन्य किसानों को भी खाद जरूरत के अनुसार उपलब्ध कराई जाए। करीब आधे घंटे तक सड़क पर जाम लगा रहा।

कस्बा में साधन सहकारी समिति परिसर में सुबह से ही किसानों की भीड़ खाद के लिए जुटने लगी थी। 11 बजे तक समिति का ताला नहीं खुला तो किसानों ने इसकी जानकारी फोन करके एसडीएम श्वेता पांडेय को दी। एसडीएम ने फोन करके सचिव से जानकारी ली तो बताया गया कि समिति का सचिव लालूराम विश्वकर्मा बैंक में पैसा जमा करने गए थे। वह दोपहर के करीब समिति में वापस और खाद का वितरण कराना प्रारंभ किया।

इधर, खाद का वितरण केवल खाता धारकों को होने पर वहां उपस्थित सैकड़ों किसानों ने इसका विरोध किया। इस पर सचिव ने कहा कि अभी केवल खाता धारकों को ही खाद मिलेगी। इस पर नाराज होकर किसान चरखारी-मुस्करा सड़क पर बैठ गए और जाम लगा दिया।

किसान देवेंद्र सिंह निवासी सोहजना, रघुवर निवासी बमरारा, परमलाल निवासी सोहजना, रामप्रकाश निवासी अटकौहां ने बताया कि सचिव खाद की कालाबाजारी करते हैं। किसानों को एक-एक बोरी के लिए परेशान होना पड़ रहा है वहीं ब्लैक में थोक में खाद दे दी जाती है।

जाम लगने की जानकारी पर एसडीएम और धनुषधारी सहकारी समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश, सचिव पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास किया। एसडीएम ने सचिव को निर्देश दिए कि जिनका खाता नहीं है उन्हें भी खाद दी जाए। उनके आश्वासन पर दोपहर 12 बजे से लगा जाम करीब आधे घंटे बाद खुल सका।

Edited By: Nitesh Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट