जागरण संवाददाता, महोबा: 1983 से काम कर रहे एक ग्रुप की कंपनी ने रियल स्टेट में भूखंड देने के नाम पर जनपद के 20 हजार नागरिकों का करीब 50 करोड़ रुपये जमा कराया गया था जो पैसा आज तक निवेशकों को नहीं मिला। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी कंपनी ने निवेशकों का पैसा नहीं दिया। मंगलवार को निवेशकों ने वित्त मंत्री को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंप पैसा दिलाने की मांग की है।

गणेश प्रसाद शर्मा, आनंद गुप्ता, खलक ¨सह, प्रताप ¨सह कुशवाहा, महेश, मोहनलाल, उत्तम, अर¨वद, ओम प्रकाश सहित सैकड़ों निवेशकों ने मंगलवार को परमानंद से रैली निकाली और नारेबाजी करते हुए सदर तहसील पहुंचे। तहसील में प्रदर्शन करने के बाद एसडीएम राजेश कुमार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि 22 अगस्त 2014 भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कंपनी के सभी कारोबार को बंद कर निवेशकों का पैसा तीन माह में वापस करने का आदेश दिया था। फैसले के खिलाफ कंपनी सुप्रीम कोर्ट गई थी। उच्चतम न्यायालय ने कंपनी की सभी संपत्ति बेचकर निवेशकों का पैसा छह माह में वापस करने का आदेश दिया था। लेकिन कंपनी ने अभी तक पैसा नहीं दिया। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने भी दो माह में पैसा दिलाने का आश्वासन दिया था। महोबा जनपद के 20 हजार निवेशकों का 50 करोड़ रुपये कंपनी के पास फंसा है। निवेशकों ने वित्त मंत्री से जल्द से जल्द पैसा दिलाने की मांग की है।

Posted By: Jagran