जागरण संवाददाता, महोबा : नवरात्र के अंतिम दिन देवी मंदिरों में पूजा अर्चना के लिए सुबह से रात तक भक्तों की कतारें लगी रही। नवमी होने के चलते लोग परिवार सहित मंदिर पहुंचे और माता रानी की आरती कर प्रसाद अर्पण किया। नौ दिनों तक घरों से लेकर मंदिरों और दुर्गा पंडालों में विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान चलते रहे। गुरुवार को जगह-जगह भंडारे आयोजित हुए।

शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन नवमी को भोर से ही श्रद्धालुओं की भीड़ पहुंचने लगी थी। शक्तिपीठ मां बड़ी चंद्रिका मंदिर, ऐतिहासिक छोटी चंद्रिका, बड़ी काली माता, शारदा माता, मां विध्यवासिनी, चकौटा देवी, संकठा माता, चामुंडा देवी सहित सभी देवी मंदिर में नवरात्र के आखिरी दिन भक्तों की भारी भीड़ पहुंची। जगह जगह कन्या भोज और भंडारे का आयोजन किया गया। घरों में भी श्रद्धालुओं ने कन्या भोज कराया। बड़ी चंद्रिका मंदिर परिसर में चल रहे विशाल भंडारे में सुबह से देर शाम तक भक्तों ने प्रसाद खाया।

इसी तरह कालिका देवी नवयुवक समाज कस्बाथाई महोबा की ओर से भंडारा का आयोजन किया गया। यहां भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया। इं राजुल मिश्र ने बताया कि यह दिव्य भंडारा हर वर्ष की भांति पिछले 31 वर्ष से किया जा रहा है। समिति में प्रकाश कश्यप, डीडी अनुरागी, जीतेंद्र गुप्ता, जागेंद्र गुप्ता, ऋषभ गुप्ता, पंकज सोनी, प्रशांत धुरिया राहुल साहू, प्रिस पचौरी, राजा बाबू पुरोहित, गौरव सोनी, सलिल सोनी उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran