संवाद सूत्र, बेलाताल (महोबा) : जैतपुर ब्लाक की महेवा ग्राम पंचायत में 15वें वित्त व अन्य वित्त से पंचायत सचिव ने संस्था की मिलीभगत से बिना काम कराए करीब आठ लाख रुपये निकाल लिए। यह कारनामा पंचायत चुनाव के दौरान प्रशासक नियुक्त होने के समय किया गया। गांव के संदीप कुमार ने ग्रामीणों के साथ शिकायत डीएम को दी है। डीएम ने डीपीआरओ को जांच के निर्देश दिए हैं।

जैतपुर की महेवा पंचायत में तैनात ग्राम पंचायत अधिकारी महेश कुमार सरोज तैनात हैं। गांव के निवासी संदीप कुमार मिश्रा ने डीएम को बताया कि सीडीओ, एसडीएम, डीपीआरओ, बीडीओ, एडीओ के पास लिखित शिकायत दे चुके हैं। अभी तक किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई। इन्होंने सूचना के अधिकार के तहत भी प्रार्थना पत्र दिया है। इनके साथ गांव के लगभग दो दर्जन ग्रामीणों ने भी इस मामले की शिकायत उच्च अधिकारियों से की थी।

इतनी धनराशि निकाली गई

सप्लायर फर्म ने दो मई 2021 में छह आईडी के सहारे अलग-अलग धनराशि निकाली गई। 1.19 लाख रुपये हैंडपंप रिपेयरिग के नाम पर निकाले गए। जबकि अधिकांश हैंडपंप खराब हैं। कोरोना किट के लिए 18,250 रुपये की निकासी हुई। कूड़ा गाड़ी के लिए 23,700 रुपये निकाले गए। जबकि गाड़ी गांव में नहीं हैं। सबमर्सिबल व टंकी निर्माण के लिए 68,500 रुपये तथा कूड़ा सफाई के लिए 88,500 रुपये का फर्जी भुगतान दिखाया गया। हैंडपंप प्लेटफार्म के लिए 27,500 रुपये व रीबोर कार्य के लिए 71,300 व वाटर सप्लाई लाइन की मरम्मत के लिए 97,850 रुपये का भुगतान निकाला गया। इस फर्म में 18,750 रुपये सैनिटाइजर के नाम पर निकाला गया। हैंडवाश के लिए भी 24,500 की धनराशि निकाली गई।

गांव के हालात खराब

गांव की प्रत्येक गली में कीचड़ फैला हुआ है। नालियां चोक हैं, पंचायत भवन, शौचालय के पास गंदगी का अंबार लगा हुआ है। ग्रामीणों में अमर सिंह ,लखन लाल, गोरेलाल, भरत लाल, पंचू, प्रदीप, मुकुंदी, सुखदेव, धनीराम, धर्मेंद्र, सुखदयाल, बाबूलाल, सीताराम, सतीश आदि ने जांच की मांग की है। जिला पंचायत राज अधिकारी संतोष कुमार ने कहा कि मामले की जांच कराई जा रही है। टीम मौके पर जाएगी और हकीकत देखेगी।

Edited By: Jagran