महराजगंज: लगातार दूसरे दिन भी मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा। शुक्रवार को भी जिले में दिन भर रिमझिम बारिश होती रही। बारिश अधिक होने की वजह से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। हवाओं के चलने से ठंड के तेवर और तीखे हो गए। दिन भर लोग अपने अपने घरों में दुबके रहे। देर रात बादलों की गड़गड़ाहट और बिजली चमकने के साथ बारिश हुई। हालांकि दिन का तापमान में गिरावट नहीं हुई। तापमान 16 डिग्री सेल्सियस रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। गुरुवार रात चमक के साथ तेज बारिश शुरू हुई, जो रात दो बजे तक झमाझम होती रही। शुक्रवार की सुबह लोग बारिश से बचाने के लिए रेन कोट, छाता लेकर सड़क पर नजर आए। सुबह 10 बजे के करीब बारिश कम हुई लेकिन दोपहर बाद बूंदाबांदी शुरू हो गई।

आसमान में दिन भर बादल छाए थे। हवाएं चलने की वजह से गलन बढ़ गई। बाजार व चौराहे पर गिरे अलावा बारिश में गिले हो गए। दिन भर कहीं अलाव नहीं जला। जिसकी वजह से भीड़ भाड़ में मौजूद लोग ठिठुरते रहे। स्कूल बंद होने की वजह से बच्चों को राहत मिली। बारिश से बचने के लिए लोगों दिनभर जतन करते रहे। शाम साढ़े छह बजे तक रिमझिम बारिश का दौर चलता रहा। रात में ठंडी हवाओं ने लोगों को कंपा दिया।

----

लगातार बारिश से जनजीवन बेहाल:

अचानक मौसम खराब होने की वजह से जनजीवन का काफी बुरा असर पड़ा है। जिले में लगातार दो दिनों से हो रही बारिश से लोग बेहाल हो गए हैं। देर रात आकाश में बिजली चमकी और गरज के साथ बारिश का दौर शुरू हो गया। जिसकी वजह से पारे में गिरावट देखी गई। पश्चिम विक्षोभ की वजह से यह बारिश हो रही है। जिसकी वजह से ठंड बढ़ने की बात कहीं जा रही है। पहाड़ी इलाकों में जोरदार बर्फबारी होने से तराई में ठंड बढ़ गई है।

-----

बारिश में क्या करें उपाय:

-ठंड में भीगने से गर्म कपड़े भी भीग जाएंगे, ऐसे में रेनकोट लेकर चलें।

-सड़क पर कीचड़ अधिक होने के कारण संभल कर बाइक चलाएं।

-बदलने मौसम में अधिक से अधिक गर्म कपड़े पहने,ताकि ठंड से बचा जा सके।

-बच्चों, बुजुर्गों का विशेष ध्यान दें और उनके सेहत पर ध्यान दें।

-ठंड से बचाने के लिए अलाव व गर्म भोजन का इस्तेमाल करें।

-परेशानी होने पर डाक्टर से समय रहते सलाह लें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस