महराजगंज: एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिग यूनिट और एसएसबी ठूठीबारी की टीम ने भारतीय मूल की किशोरियों को बहलाकर नेपाल बेचने ले जा रहे नेपाली नागरिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह महराजगंज और कुशीनगर की दो किशोरियों को नेपाल ले जाने की फिराक में था। गुरुवार को पुलिस ने उसे न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने प्रेसवार्ता कर मामले का पर्दाफाश किया है। उन्होंने बताया कि नेपाल के नवलपरासी जिला थाना महेशपुर पाल्हिनंदन गांवपालिका का रहने वाला आरोपित कैलाश नेपाल के बेलाशपुर में होटल का संचालक है। उसकी गिरफ्तारी के बाद हुई जांच पड़ताल में यह ज्ञात हुआ है कि वह भारतीय क्षेत्र की किशोरियों को बहलाकर नेपाल ले जाता था और वहां पर उन्हें किसी और को सुपुर्द कर देता था। गुरुवार की सुबह आरोपित के बुलाने पर महराजगंज और कुशीनगर की दोनों किशोरियां ठूठीबारी बार्डर पर पहुंची थी, उन्हें रिसीव करने के लिए नेपाली आरोपित भी पहुंचा था, जिसे संदिग्ध पाए जाने पर एसएसबी ने पूछताछ शुरू की, तो दोनों लड़कियां हड़बड़ा गईं। पूछताछ होता देख आरोपित भागने की कोशिश करने लगा तभी एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिग की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

-

होटल के साथ चल रहे अन्य व्यापार की भी होगी जांच

पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित नेपाल में होटल के कारोबार से जुड़ा है। होटल के कारोबार और किशोरियों की तस्करी का मामला जांच का विषय बना है। इस मामले में नेपाल पुलिस से संपर्क कर गहनता पूर्वक न सिर्फ जांच की जाएगी, बल्कि इस मामले की कड़ियों को भी जोड़ते हुए मानव व्यापार पर रोक लगाने का प्रयास किया जाएगा।

-

कार्रवाई में यह टीम रही शामिल

: मानव व्यापार के खिलाफ कार्रवाई में ठूठीबारी थाने के उपनिरीक्षक वीरेंद्र कुमार और महिला आरक्षी पूजा तिवारी, एसएसबी के उपनिरीक्षक प्रथम सिंह, सुनील कुमार, रामानुज गौड़, एंटी ह्यूमन एसएसबी टीम में सहायक उपनिरीक्षक कुलवंत सिंह, प्रियंका तिवारी और सुजाता तथा मानव सेवा संस्थान टीम से बबीता शर्मा और सपना वर्मा व अन्य पुलिसकर्मी शामिल रहे।