महराजगंज : मौसम के बदलते ही मच्छरों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि होने लगी है। जगह-जगह गंदगी का साम्राज्य है, जिसमें मच्छरों के लार्वा पनप रहे हैं। फागिग के अभाव में मच्छरों का आतंक बढ़ गया है और लोगों का जीना दुश्वार हो गया है।

जिले की दो नगर पालिका, पांच नगर पंचायत और 929 ग्राम पंचायतों की आबादी करीब 32 लाख है। लेकिन मच्छरों से निजात दिलाने के लिए विभाग के पास कोई ठोस कार्ययोजना नहीं है। जिसके कारण मच्छर कानों में भनभनाना और मौका मिलते ही डंक मारना शुरू कर देते हैं। हालांकि प्रशासन का दावा है कि रोस्टर के माध्यम से फांगिग कराई गई जाती है। लेकिन हकीकत ठीक उलट है। कुछ प्रमुख लोगों के घर के आस-पास फागिग कराकर कागजी खानापूरी कर लिया जाता है, जिसके कारण लोगों को इस दुश्वारियों से निजात नहीं मिल पा रहा है। ग्राम पंचायतों में फागिग नहीं हो रहा है। जलजमाव और गंदगी के कारण पनप रहे मच्छर मलेरिया रोग को दावत दे रहे हैं। बावजूद जिम्मेदार कागजी औपचारिकता पूरी कर फागिग के नाम पर खेल करने में जुटे हैं।

-------

नगर पालिका व नगर पंचायतों के अधिशासी अभियंता तथा ग्राम पंचायतों के जिम्मेदारों को फागिग कराने का निर्देश दिया गया है। इसकी क्रास चेकिग भी कराई जाएगी। अनियमितता मिलने पर संबंधित के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस