महराजगंज: लोकसभा सामान्य निर्वाचन के लिए हुए मतदान की मतगणना को लेकर जिला पंचायत सभागार में मतगणना अधिकारियों को जिला पंचायत सभागार में बुधवार को प्रशिक्षण दिया गया। जिलाधिकारी अमरनाथ उपाध्याय ने कहा कि पोस्टल बैलेट तथा आनलाइन बैलेट की स्क्रीनिग कर मिलान किया जाएगा। अगर दोनों में किसी प्रकार का अंतर है, तो वह रिजेक्ट माना जाएगा। वीवीपैट के पर्ची की मिलान करने के लिए एक डिब्बा होगा, उसी में पर्ची रखी जाएगी। ईवीएम से बैलेट से मिलान किया जाएगा। पर्ची के 25-25 की गड्डी बनाए जाएंगे, जिससे गणना में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार प्रत्येक विधान सभा में पांच वीवीपैट का सत्यापन भी किया जाएगा। मतगणना की रिपोर्ट तैयार करने के लिए संबंधित फार्म को ध्यान से भरना होगा। मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल ने कहा कि संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले विधानसभा क्षेत्र में पड़े मतों की गिनती अलग-अलग कक्ष में होंगी। राउंडवार गिनती पूरी होने पर 14 टेबल से प्राप्त परिणाम का मिलान करते हुए एआरओ अपने स्तर से ई-सुविधा पोर्टल पर परिणाम अपलोड करेंगे, जो आरओ के पोर्टल पर आएंगे। आरओ की तरफ से विधानसभावार परिणाम का परीक्षण कर अपडेट किया जाएगा। जबकि पोस्टल बैलेट की काउंटिग की फीडिग आरओ के लागिग से होगी और इंट्री के बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे। इस दौरान परियोजना निदेशक राजकरन पाल, डीसी मनरेगा उपेन्द़ पाल, डीसी एनआरएलएम रवीन्द्र वीर यादव तथा जिला विद्यालय निरीक्षक अशोक कुमार सिंह आदि उपस्थित रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran