प्राइवेट प्रैक्टिस के विरुद्ध डीएम ने दिए जांच के निर्देश

महराजगंज : जिलाधिकारी सत्येंद्र कुमार ने शुक्रवार को जिला संयुक्त चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने जहां पीकू वार्ड के साथ एईएस और इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण किया। उपस्थिति पंजिका में पीकू वार्ड में तैनात चिकित्सक डा. शाहिद अंसारी के अनुपस्थिति पर इनके विरुद्ध शासन को पत्र भेजने का निर्देश दिया। चिकित्सकीय लापरवाही में डा. प्रमोद कुमार व डा. विशाल चौधरी पर नाराजगी जाहिर कर सुधार का निर्देश दिया। जिला अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा प्राइवेट प्रैक्टिस की शिकायत पर इनके विरुद्ध सदर एसडीएम व सीएमएस को जांच का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले चिकित्सकों से निजी प्रैक्टिस भत्ते की रिकवरी कराई जाएगी। पीकू वार्ड में जिलाधिकारी महोदय ने भर्ती मरीजों की संख्या और उनके केस हिस्ट्री की जानकारी ली। ताकि रोगियों का प्रभावी इलाज सुनिश्चित किया जा सके । जिलाधिकारी ने सीएमएस को निर्देशित करते हुए कहा कि केस हिस्ट्री के दौरान इस बात की जानकारी अवश्य करें, कि बच्चा के सरकारी अस्पताल पहुंचने के पहले उसका इलाज कौन कर रहा था। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में जेई/एईएस के मामलों को अत्यंत गंभीरता से लें और इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं कि जाएगी। उन्होंने कहा कि यदि कोई विभागीय चिकित्सक ड्यूटी के समय निजी प्रैक्टिस में संलिप्त पाया जाता है, तो उसके विरुद्ध कठोर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। निरीक्षण के दौरान सीएमएस डा. एएम. भास्कर, डा. ऋषि त्रीपाठी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran