महराजगंज: जिला पंचायत सदस्यों ने प्रस्ताव पर विकास कार्य आवंटित करने की मांग को लेकर डीएम को ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव पर कार्य आवंटित नहीं किए जा रहे हैं। मांगें नहीं पूरी होने पर उन्होंने आंदोलन की चेतावनी दी है।

जिला पंचायत सदस्य प्रेमशंकर पांडेय, राबिया खातून, अनवर अली, सुरेश चंद साहनी व हरिनाथ ने कहा कि बैठक में कार्य कराने के लिए प्रस्ताव मांगा गया। सर्वे करके जेई ने एस्टीमेट भी बना दिया, लेकिन हम कार्यों को स्वीकृति नहीं दी गई। इससे क्षेत्र में जिला पंचायत द्वारा विकास का कोई कार्य नहीं कराया जा सका। यह अन्याय है। इस मामले की जांच कराकर सदस्यों के प्रस्ताव पर कार्य आवंटित कराया जाए। यदि मांगें नहीं मानीं गईं तो जिला पंचायत कार्यालय पर आंदोलन करने को बाध्य होंगे। बीडीसी व प्रधानाध्यापक में नोकझोंक

महराजगंज: विकास खंड के पूर्व माध्यमिक विद्यालय जंगल गुलरिहा में मिड डे मील की गुणवत्ता को लेकर गुरुवार को बीडीसी शिव भुजा पांडेय व प्रधानाध्यापक प्रमोद मौर्या में नोकझोंक हो गई। मामला थाना तक पहुंच गया। जिसका वीडियो भी वायरल हुआ। दोनों ने एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए कोल्हुई थाना में तहरीर दी है। थानाध्यक्ष यशवंत चौधरी ने बताया कि मामला संज्ञान में है, जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। नहीं थम रही बोरा तस्करी

महराजगंज: सोनौली कोतवाली क्षेत्र का हरदी डाली व कैथवलिया उर्फ बरगदही गांव बोरा तस्करी का सेफ जोन बन गया है। यहां प्रतिदिन हजारों बोरे नेपाल से भारत में लाए जा रहे हैं। फिर उन्हें पिकअप पर लादकर नौतनवा क्षेत्र की राइस मिलों पर भेजा जा रहा है। तस्करी का यह खेल आधी रात और भोर के बीच चलता है।

नेपाल के भैरहवा गल्ला मंडी से बोरे की खेप ट्रैक्टर ट्राली पर लादकर सीमा से सटे नेपाल के त्रिलोकपुर गांव में लाकर डंप किया जा रहा है। सोनौली कस्टम सुपरिटेंडेंट प्रदीप दुबे का कहना है कि पगडंडियों के रास्ते बोरे लाना तस्करी की श्रेणी में आता है। बोरा तस्करी रोकने के लिए सचल दल को निर्देशित किया गया है।

Edited By: Jagran