महराजगंज (जेएनएन)। बिना वीजा दिल्ली से काठमांडू जाते समय शनिवार की शाम सोनौली सीमा पर आव्रजन विभाग द्वारा हिरासत में लिया गया नीदरलैंड के नागरिक मिगुएल कारलो के खिलाफ सोनौली थाने में धोखाधड़ी और विदेशी विषयक अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।

सोनौली पुलिस ने रविवार को डाक्टरी परीक्षण कराकर मिगुएल कारलो को कोर्ट में पेश किया जहां उसे जेल भेज दिया गया। भारत से अवैध रूप से नेपाल में घुसपैठ की कोशिश कर रहे विदेशी नागरिक को आव्रजन अधिकारियों ने शनिवार को सोनौली बार्डर पर गिरफ्तार किया था।

पकड़े गए युवक के पास कोई वैध कागजात बरामद नहीं हुआ था, जिसके बाद से उसे खुफिया एजेंसियों के अधिकारियों ने भी पूछताछ कर मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दिया था। शनिवार की सुबह करीब 11 बजे दिल्ली से काठमांडू जाने वाली एक बस में सवार होकर मिगुएल कारलो भारत से नेपाल में घुसपैठ करने की काशिश कर रहा था।

किंतु आव्रजन अधिकारियों की नजर उस पर पड़ गई। अधिकारियों ने उससे पासपोर्ट व वीजा मांगा, जिस पर वह आनाकानी करने लगा। अधिकारियों ने शक के आधार पर उसे रोक लिया और आव्रजन कार्यालय ले आए।

यह भी पढ़ें: अभा अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की सूची, 11 में कई दिग्गज के नाम

पूछताछ में उसने बताया कि उसके पास भारत में रहने का वीजा नहीं है। जिस देश से आया है उस देश का डिपार्चर स्टैंप भी नहीं है। वह अवैध रूप से भारत में रहते हुए नेपाल निकल जाना चाहता था। सोनौली कोतवाल बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि उसके खिलाफ धोखाधड़ी और विदेशी विषयक अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।

यह भी पढ़ें: छुआछूत से कमजोर हो जाता है राष्ट्र: योगी आदित्यनाथ

Posted By: amal chowdhury

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप