महराजगंज: लॉकडाउन के दौरान जनधन खातों में आए पांच सौ रुपये और श्रमिकों के एक हजार रुपये निकालने के लिए बैंकों पर भीड़ बढ़ती जा रही है।

भीड़ संभालने में और फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन कराने में प्रशासन को नाकों चने चबाने पड़ रहे हैं। लॉकडाउन के बीच गरीब, मजदूर आदि के लिए सरकार ने उनके खातों आर्थिक मदद के लिए धनराशि भेजी है। इसके साथ ही विधवा, वृद्धा व दिव्यांग पेंशन की किस्तों के साथ उज्ज्वला योजना के तहत गैस उपभोक्ताओं के खातों में गैस के मूल्य भी भेजे गए हैं। जिसे निकालने के लिए रोजाना बैंकों पर भीड़ लग रही है। बुधवार को शहर के भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, नगर सहकारी बैंक, केनरा आदि बैंकों पर लंबी लाइनें देखने को मिली। मौके पर कोतवाली के अतिरिक्त निरीक्षक शिवमनोहर यादव महिला व पुरुष आरक्षियों के साथ फिजिकल डिस्टेंसिग के पालन को लेकर मशक्कत करते दिखे।

--

सैनिटाइज कराया जा रहा हाथ

अब बैंकों में काम का तरीका भी बदल गया है। बैंक पहुंचने वाले ग्राहक का हाथ सबसे पहले सैनिटाइज कराया जा रहा है। इसके बाद बैंक के अंदर काउंटर से एक मीटर की दूरी पर खड़ा कर शारीरिक दूरी का अनुपालन कराया जा रहा है। बुधवार को एसबीआइ के विकास भवन ब्रांच में शाखा प्रबंधक सत्यप्रकाश सिंह ने उपभोक्ताओं को सैनिटाइज करने व फिजिकल डिस्टेंसिग के पालन के लिए जागरूक किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस