महराजगंज: जिले में हुए धान खरीद घोटाले के मुख्य आरोपित व क्रय एजेंसी संचालक 50 हजार के इनामी शंभू गुप्ता सहित 36 आरोपित पुलिस के निशाने पर हैं। पुलिस ने गिरफ्तारी के लिए छापेमारी तेज कर दी है। दो माह पहले 13 क्रय केंद्र प्रभारियों पर मुकदमा दर्ज हो चुका है।

मुख्य आरोपित शंभू गुप्ता ने जिले के 36 धान क्रय केंद्र प्रभारियों की मिलीभगत से किसानों का करोड़ों रुपये का धान एमएसपी पर बेच दिया था। इस खेल में केंद्र प्रभारियों के डिजिटल सिग्नेचर के माध्यम से सरकारी पोर्टल पर धान की खरीद की जाती रही है। 17 फरवरी को साइबर सेल के प्रभारी मनोज कुमार पंत के नेतृत्व में स्वाट व कोतवाली पुलिस की टीम ने शिकारपुर के निजी आफिस के जरिये चल रहे अवैध धंधे का पर्दाफाश करते हुए वहां आपरेटर के रूप में काम कर रहे सदर कोतवाली थानाक्षेत्र के करमहा निवासी चार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, लेकिन मुख्य आरोपित व धान खरीद का मास्टरमाइंड शंभू गुप्ता बच निकला था। वह चार माह से फरार चल रहा है। पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने बताया कि मुख्य आरोपित शंभू गुप्ता के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई चल रही है, शेष आरोपित के लिए भी गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए हैं। शंभू गुप्ता के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई की अनुमति अभी नहीं मिल सकी है। जांच अधिकारी न्यायालय में दो बार प्रतिवेदन प्रस्तुत कर कुर्की की अनुमति मांग चुके हैं। न्यायालय से अनुमति मिलते ही आरोपित के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

Edited By: Jagran