महराजगंज: जिले में कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रही है। शनिवार को 26 और कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इस प्रकार जिले में अब तक कुल सक्रिय रोगियों की संख्या 181 तक पहुंच गई है। उधर प्रशासन ने विभिन्न क्षेत्रों में 51 कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए सतर्कता बढ़ा दी है।

जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय से एक कर्मचारी, बिस्मिलनगर, फुलवरिया, फरेंदा वार्ड नंबर तीन, नौतनवा, परतावल, महुआ महुई, शीतलापुर, पटकौली, हरपुर तिवारी आदि क्षेत्रों से कुल 26 कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट आई है। नोडल अधिकारी डा. आइए अंसारी ने बताया कि जिले में अब तक कुल संक्रमितों की संख्या 12665 हो गई है। इसमें 12343 ने कोरोना को मात दे दी है। वर्तमान में सक्रिय रोगियों की संख्या 181 हो गई है। सभी होम आइसोलेशन में है, जिनकी स्वास्थ्य टीम निगरानी कर रही है।

अतिरिक्त उप जिलाधिकारी मो. जसीम ने बताया कि निचलौल, नौतनवा, सदर और फरेंदा तहसील क्षेत्रों में मिले कोरोना संक्रमितों को लेकर 51 कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। रैपिड रिस्पांस टीम संक्रमितों से मोबाइल पर संपर्क कर उन्हें सुविधा उपलब्ध करा रही है। बस यात्रियों सहित 2257 लोगों की हुई कोरोना जांच

महराजगंज: कोरोना मरीजों का दायरा बढ़ने से प्रशासन भी सतर्क है। जनपद में प्रवेश करने वाली सीमा पर ही स्वास्थ्य टीम लगाकर बस यात्रियों की जांच की जा रही है। इस प्रकार शनिवार को जिले में कुल 2257 लोगों की जांच की गई है।

भारत नेपाल के सोनौली सीमा, गोरखपुर से महराजगंज प्रवेश करने वाली कतरारी तथा गोरखपुर-फरेंदा-महराजगंज की सीमा पर स्वास्थ्य टीम कैंप कर रही है। इन मार्गों से प्रवेश करने वाले बस यात्रियों की कोरोना जांच के बाद ही प्रवेश की अनुमति मिल रही है। नोडल अधिकारी डा. आइए अंसारी ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता बरती जा रही है। जनपद में प्रवेश करने वाले मार्गों की सीमा पर स्वास्थ्य टीम जांच कर रही है। शनिवार को एंटीजन से 1123 लोगों की जांच की गई है। जबकि आरटीपीसीआर जांच के लिए 1125 लोगों का नमूना भेजा गया है। कोरोना से बचाव में मददगार होगा कोविड हेल्प डेस्क

महराजगंज: कोरोना से बचाव के लिए सरकारी कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क बनाया जा रहा है। इसी कड़ी में सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी कार्यालय में भी कोविड हेल्प डेस्क का शुभारंभ किया गया। कार्यालय में बिना बुखार जांच और हाथ सैनिटाइज किए प्रवेश की अनुमति नहीं है। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी आरसी भारतीय ने बताया कि हेल्प डेस्क कोरोना से बचाव के लिए मददगार होगा। बाहर तैनात कर्मचारी कार्यालय में हर आने वाले लोगों की नाम व मोबाइल नंबर रजिस्टर पर नोट करेंगे। इसके बाद हाथ धुलवा कर ही कार्यालय में जाने की सलाह देंगे। ताकि इससे दोनों के लिए सुरक्षा हो और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

Edited By: Jagran