महराजगंज: जिले के 10 विभाग मिलकर दिमागी बुखार और अन्य संचारी रोगों से समुदाय का बचाव करेंगे। इसके लिए 19 अक्टूबर से 17 नवंबर तक संचारी रोग नियंत्रण माह मनाया जाएगा। इस दौरान दिमागी बुखार, जुकाम, टीबी और कोविड जैसे संचारी रोगों पर जागरूकता के हथियार से वार किया जाएगा।

विशेष संचारी रोग नियंत्रण माह के दौरान जापानी इंसेफ्लाइटिस, एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिड्रोम और अन्य संचारी रोगों की निगरानी की जाएगी। अभियान के दौरान आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और एएनएम घर-घर जाकर बुखार, जुकाम, टीबी के रोगियों के साथ-साथ कुपोषण के लक्षण वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर जांच व उपचार के लिए अस्पताल भेजवाने का काम करेंगी। क्षय रोग लक्षण वाले व्यक्तियों का नाम, पता एवं मोबाइल नंबर सहित पूरा विवरण एक लाइन लिस्टिग फार्मेट पर अंकित कर एएनएम के माध्यम से ब्लॉक मुख्यालय को उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि ऐसे व्यक्तियों की समय से जांच और उपचार शुरू हो सके। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके श्रीवास्तव ने बताया कि 19 अक्टूबर से 17 नवंबर तक संचारी रोग नियंत्रण माह मनाया जाएगा। इसके तहत 19 अक्टूबर से पहली नवंबर तक दस्तक पखवाड़ा मनाया जाएगा। अभियान की सफलता के लिए सभी स्वास्थ्य कर्मियों को निर्देशित किया गया है। यह विभाग मिलकर चलाएंगे अभियान

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास विभाग, पंचायती राज एवं ग्राम्य विकास विभाग, पशुपालन, बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग, शिक्षा विभाग, दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग, कृषि एवं सिचाई विभाग, सूचना विभाग एवं उद्यान विभाग। आयोजित होंगी यह गतिविधियां

नगर विकास विभाग नगरीय क्षेत्र में तथा पंचायती राज व ग्राम्य विकास विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल, साफ-सफाई, मच्छरों की रोकथाम, संवेदनशील क्षेत्रों को खुले में शौच से मुक्त कराना और नाला-नालियों की साफ-सफाई के अलावा शुद्ध पेयजल की व्यवस्था, वेक्टर कंट्रोल और वातावरणीय स्वच्छता के प्रयास करेगा। दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग जेई व एईएस रोग के उपरांत दिव्यांग हुए बच्चों का सर्वे करेगा, और दिव्यांग हुए बच्चों को सहायक उपकरण उपलब्ध कराना है। पशुपालन विभाग सुअरबाड़ों को आबादी से दूर करवाने के प्रबंधन, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग कुपोषित बच्चों के चिन्हांकन कर उन्हें पुष्टाहार वितरित करना, जन जागरूकता व संवेदीकरण, दिमागी बुखार के दिव्यांग बच्चों को योजनाओं का लाभ दिलवाने और शिक्षा विभाग वाट्सएप ग्रुप के जरिये जन जागरूकता अभियान व संवेदीकरण करेगा। कृषि एवं सिचाई विभाग द्वारा मच्छरों के प्रजनन पर रोक लगाने, सूचना विभाग द्वारा प्रचार-प्रसार और उद्यान विभाग द्वारा मच्छर रोधी पौधों के रोपण जैसी गतिविधियां संचालित की जाएंगी।

Edited By: Jagran