रायबरेली, जागरण संवाददाता। सलोन ब्लाक के समीप रहने वाले कार मिस्त्री ने मंगलवार को पत्नी से अनबन होने के बाद पेट्रोल डालकर खुद को आग लगा ली। परिवारीजन आनन-फानन उसे सीएचसी ले गए, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। इस मामले में देर शाम तक तहरीर नहीं दी गई थी।

कस्बा निवासी जावेद अख्तर कार मिस्त्री था। कस्बे में ही उसने दुकान खोल रखी थी। मंगलवार की सुबह उसका पत्नी शायरा बानो से झगड़ा हो गया। शायरा नाराज होकर मुहल्ला चौधराना अपने मायके चली गई। जावेद भी दुकान चला गया। दोपहर में जावेद के पास शायरा का फोन आया और दोनों में फिर बहस होने लगी। नाराज जावेद दुकान में रखा पेट्रोल लेकर घर चला गया। उसने खुद को कमरे में बंद कर लिया और पेट्रोल डालकर आग लगा ली। उसकी चीख पुकार सुनकर परिवार के लोग मदद के लिए दौड़े। दरवाजा तोड़कर उसे बाहर निकाला गया।

घरवाले उसे सीएचसी ले गया, जहां डा. आशीष नायक ने उसे मृत घोषित कर दिया। जावेद की मौत की खबर सुनकर परिवारीजनों में कोहराम मच गया। सीएचसी में उसकी ससुरालवाले भी पहुंचे। उन्हें देख जावेद के परिवार के लोग आगबबूला हो गए और झगड़ा करने लगे। स्थानीय लोगों ने किसी तरह दोनों पक्षों को शांत कराया। कोतवाल संजय त्यागी ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। तहरीर मिलने पर केस दर्ज किया जाएगा।

पार्ट्स धोने के लिए मंगाया था पेट्रोल : जावेद ने गाड़ियों के पार्ट्स धोने के लिए पेट्रोल मंगाया था। ये बात उसकी दुकान में काम करने वाले लड़कों ने बताई। ये भी बताया कि फोन पर किसी से बात करते वक्त जावेद आवेश में आ गए थे और उसके बाद पेट्रोल लेकर घर चले गए। जावेद के भाई परवेज और सानू ने बताया कि भाभी से झगड़ा होने के बाद उसने गलत कदम उठा लिया।

Edited By: Anurag Gupta