UP News: लखनऊ, राज्य ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी के चयन (UP New DGP Selection) के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) सोमवार को प्रस्ताव संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) को भेजेगी। इसके लिए रविवार देर रात तक सभी तैयारियां की जा रही थीं। प्रदेश के स्थायी डीजीपी के चयन के लिए राज्य सरकार ने इसी माह आयोग को प्रस्ताव भेजा था, जिसे हरी झंडी नहीं मिल सकी थी। आयोग ने कुछ आपत्तियों के साथ प्रस्ताव वापस भेज दिया था।

उत्तर प्रदेश में स्थायी डीजीपी की नियुक्ति के लिए नए सिरे से प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसी माह के प्रथम सप्ताह में नए डीजीपी के चयन के लिए प्रस्ताव आयोग को भेजा था, उस पर पूर्व डीजीपी मुकुल गोयल को हटाए जाने को लेकर भी सवाल पूछा गया है।

मुकुल गोयल पर हुई कार्रवाई का ब्योरा गिनाएगी सरकार

सूत्रों का कहना है कि सरकार अपने जवाब में मुकुल गोयल पर हुई कार्रवाई का ब्योरा गिनाएगी। इनमें सहारनपुर के एसएसपी पद पर रहने के दौरान उनके निलंबन, वर्ष 2006 में मुकुल गोयल के डीआइजी आगरा के पद पर तैनात रहने के दौरान मैनपुरी में सिपाही भर्ती में अनियमितता को लेकर उनकी भूमिका पर उठे सवाल, मुजफ्फरनगर दंगे के बाद एडीजी कानून-व्यवस्था के पर पर तैनात रहने के दौरान कानून-व्यवस्था को लेकर विषम परिस्थितियां पैदा होने के तथ्यों काे जवाब भी शामिल किया गया है।

आदेशों की अवहेलना और अकर्मण्यता भी जवाब में शामिल

इसके अलावा सरकार अपने जवाब में 11 मई, 2022 को आयोजित सिविल सर्विस बोर्ड की बैठक में मुकुल गोयल के डीजीपी रहते हुए उनके कार्यकाल में शासन के आदेशों की अवहेलना, अकर्मण्यता, शिथिल कार्यप्रणाली/पर्यवेक्षण का प्रकरण संज्ञान में आने पर उन्हें डीजीपी के पद से हटाए जाने का निर्णय किए जाने के तथ्यों काे जवाब भी शामिल किया गया है।

डा. डीएस चौहान को बनाया था कार्यवाहक डीजीपी 

उल्लेखनीय है कि 11 मई, 2022 को पूर्व डीजीपी मुकुल गोयल को पद से हटा दिया गया था। राज्य सरकार ने डीजी इंटेलीजेंस व विजिलेंस डा. डीएस चौहान को कार्यवाहक डीजीपी बनाया था। राज्य सरकार ने इसके लगभग चार माह बाद स्थायी डीजीपी के चयन का प्रस्ताव आयोग को भेजा था।

Edited By: Umesh Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट