लखनऊ, जागरण टीम। ठाकुरगंज गोविंदपुरम कालोनी में पत्नी ने शराब पीने से रोका तो अधिवक्ता अशोक चौरसिया ने मंगलवार दोपहर लाइसेंसी बंदूक से सीने पर गोली मार कर हत्या कर दी। पुलिस ने हत्यारोपित अधिवक्ता को गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही मौके से खोखा और बंदूक भी बरामद कर ली है। अधिवक्ता शराब के लती हैं और पत्नी पीने से रोकती थीं। इसी बात को लेकर घर में कई माह से कलह चल रही थी। घटना के समय भी अशोक शराब के नशे में था।

एसीपी ठाकुरगंज आइपी सिंह ने बताया कि गोविंदपुरम कालोनी में चेतना स्कूल के पास रहने वाले अधिवक्ता अशोक चौरसिया ईंट का व्यवसाय करता है। आलमबाग में दुकान है। वह शराब का लती है। मंगलवार दोपहर वह दुकान से नशे की हालत में दुकान से लौटा। घर पर 40 वर्षीय पत्नी पुष्पा ने शराब पीने का विरोध किया। इस पर दोनों के बीच झगड़ा हो गया। झगड़े के दौरान अशोक ने लाइसेंसी बंदूक से पत्नी के सीने पर गोली मार दी। नीचे फ्लोर पर अशोक की सौतेली मां फूलमती और भाई आनंद सो रहा था।

गोली की आवाज सुनकर मां-भाई और आस पड़ोस के लोग दौड़े, लेकिन इस बीच आरोपित भाग निकला। पड़ोसियों ने घर के अंदर फर्श पर खून से लथपथ हालत में पुष्पा को पड़ा देखा। वह आनन फानन उसे उठाकर ट्रामा सेंटर ले गए। ट्रामा में डाक्टरों ने पुष्पा को मृत घोषित कर दिया। उधर, हत्या की सूचना पर इंस्पेक्टर ठाकुरगंज हरिशंकर चंद व पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मोहल्ले से ही हत्यारोपित अशोक चौरसिया को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने मौके से लाइसेंसी बंदूक कारतूस का एक खोखा बरामद किया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि अशोक के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

वकालत नहीं चली तो करने लगा ईंट की सप्लाई का व्यवसायः एडीसीपी पश्चिम चिरंजीव नाथ सिन्हा ने बताया कि अशोक हाईकोर्ट में वकालत करता था। पिछले कुछ समय से उसका काम ठीक नहीं चल रहा था। इसके बाद उसने ईंट सप्लाई का काम शुरू किया था। नशे की लत भी बढ़ गई थी। इसको लेकर पत्नी से आए दिन झगड़ा होता था। पत्नी शराब पीने का विरोध करती थी। अशोक के परिवार में उसके तीन बेटे और एक बेटी है।

Edited By: Vikas Mishra