रायबरेली, जागरण संवाददाता। सेंट पीटर्स स्कूल में अर्द्धवार्षिक परीक्षा के दौरान छात्र यश के साथ ऐसा कौन सा सलूक किया गया, ज‍िसकी वजह से उसने सुसाइड कर ल‍िया। यह जानने के लिए पुलिस वहां लगे सीसी कैमरों के फुटेज देखेगी। आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में आरोपित प्रधानाचार्य और शिक्षिका से भी पूछताछ होगी। साथ ही स्कूल के दूसरे शिक्षकों के बयान भी दर्ज किए जाएंगे।

श‍िक्ष‍िका से अपमान‍ित छात्र ने लगा ली थी फांसी 

छात्र यश ने गुरुवार की दोपहर जवाहर विहार कालोनी में अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। उसके पिता राजीव ने प्रधानाचार्य और शिक्षिका पर आत्महत्या के लिए उकसाने की एफआइआर दर्ज कराई। इस मामले की विवेचना थानाध्यक्ष मिल एरिया रेखा सिंह कर रही हैं। सीओ सिटी वंदना सिंह पूरे केस की मानीटरिंग कर रही हैं।

स्कूल में यश के साथ क्या-क्या हुआ, इस बात का पता लगाने के लिए सीसी कैमरे के फुटेज पुलिस सुरक्षित करेगी। इस संबंध में सीओ ने विवेचक को निर्देशित किया है। उम्मीद जताई जा रही है कि घटना से जुड़ी कई अहम जानकारी सीसी कैमरों के फुटेज से मिल सकती हैं। किन परिस्थितियों में छात्र ने आत्महत्या की, ये भी पता चल जाएगा।

गांव में हुआ अंतिम संस्कार 

छात्र यश मूलरूप से बछरावां के सेंहगों गांव का रहने वाला था। वह अपने बड़े भाई सुयश के साथ जवाहर विहार कालोनी में चाचा राजकुमार के घर में रहता था। शुक्रवार को पोस्टमार्टम होने के बाद यश का शव पहले जवाहर विहार कालोनी में उनके चाचा के घर लाया गया। बाद में शव बछरावां के सेंहगों गांव ले जाया गया। छात्र के घर पर शोक संवेदना जताने वालों का तांता लगा रहा है। गांव में ही यश का अंतिम संस्कार हुआ।

टापर था मेरा बच्चा 

चाचा राजकुमार ने बताया कि यश पढ़ाई में बहुत अच्छा था। हर बार क्लास में उसकी अच्छी पोजीशन आती थी। वह आइएएस बनना चाहता था। स्कूल में यश को बहुत ज्यादा प्रताड़ित किया गया, जिसके चलते उसका मनोबल टूट गया। नकल करने पर कोई इस तरह प्रताड़ित करता है क्या। शिकायत थी तो मुझसे बताते। मैं आकर यश को समझाता। यश की मौत के लिए जो लोग भी जिम्मेदार हैं, उन पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

Edited By: Anurag Gupta