लखनऊ, जेएनएन। जुलाई में मानसूनी वर्षा अपेक्षाकृत कम होने से किसानों, खासकर धान उत्पादकों की बेचैनी बढ़ गई है। उत्तर प्रदेश के केवल 32 जिलों में सामान्य या अधिक वर्षा रिकॉर्ड की जा सकी है। बाकी जिलों में कम बारिश होने से सिंचाई का संकट दिखाने लगा है। सावन से निराश किसानों को भादो में अच्छी वर्षा की उम्मीद है परंतु यदि मौसम दगा दे गया तो महंगी सिंचाई के चलते फसलों की लागत बढ़ने का अंदेशा है।

कोरोना वायरस के संक्रमण का संकट और खराब मौसम के कारण जायद फसलों में नुकसान उठा चुके किसानों को जून माह में अच्छी वर्षा को देखकर खरीफ सीजन में भरपाई की आस जगी थी। इसके चलते ही किसानों ने धान, मक्का व उर्द जैसी फसलों का बोआई क्षेत्र बढ़ा दिया है। अधिक सिंचाई वाली धान की फसल का क्षेत्रफल गत वर्ष की तुलना में पांच प्रतिशत बढ़ा है। वहीं मक्का की बोआई भी पिछले वर्ष से ज्यादा हुई। उड़द के बोआई रकबे में भी चार फीसद तक बढ़ोतरी दर्ज की गई है। यही वजह रही कि किसानों ने कम सिंचाई वाले ज्वार, बाजरा, मूंग व अरहर जैसी फसलों का क्षेत्र घटा दिया।

चंदौली के किसान रामकिशोर सिंह का कहना है कि वर्षा अच्छी हो जाएगी तो धान में नुकसान कम होने की संभावना होती है। धान की सरकारी खरीद होने से किसानों को बिक्री की उम्मीद भी थी वर्ना कोरोना संक्रमण काल में सब्जी की फसलों की खूब दुर्गति हुई। किसानों की लागत भी वसूल नहीं हो सकी।

फसल लागत बढ़ने की चिंता : पिछले वर्ष की तुलना में इस बार मानसून जुलाई में कम मेहरबान रहा। सावन से निराश किसानों को भादो में अच्छी वर्षा की उम्मीद है परंतु यदि मौसम दगा दे गया तो महंगी सिंचाई के चलते फसलों की लागत बढ़ने का अंदेशा है। किसान योगेश लोधी का कहना है कि बिजली और डीजल की कीमतों में वृद्धि धान उत्पादक किसानों को भारी पड़ सकती है। खाद व कीटनाशक दवाओं के दाम भी गत वर्ष से अधिक हो चुके हैं। धान विशेषज्ञ डॉ. एसके शर्मा का कहना है कि सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए। नहरों में पर्याप्त पानी के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति भी बढ़ानी होगी, क्योंकि रोपाई के बाद यह समय धान की बढ़वार है और इसमें अधिक सिंचाई की जरूरत होती है।

सामान्य से कम वर्षा वाले जिले : गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद, महोबा, कुशीनगर, मथुरा, कानपुर देहात, रामपुर, हरदोई, उन्नाव, ललितपुर, फर्रुखाबाद, हाथरस, बुलंदशहर, आगरा, बांदा, रायबरेली, चंदौली, झांसी, औरैया, अलीगढ़, अमेठी, बागपत, इटावा, सोनभद्र, एटा, लखनऊ, कासगंज, शामली, अमरोहा, अयोध्या, मैनपुरी, जौनपुर, हापुड़, चित्रकूट, कन्नौज, गाजीपुर, बलरामपुर व सीतापुर।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस