लखनऊ (जेएनएन)। '...कुछ समय पहले तक उत्तर प्रदेश को सुरक्षित राज्य नहीं समझा जाता था।' केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री और पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने कुछ संकोच के साथ जब यह बात कही तो अपनी इस धारणा के पीछे का अनुभव भी बताया कि 12 साल पहले किस तरह मैनपुरी में आम की फसल दबंग ठेकेदारों द्वारा तय औने-पौने दामों पर बिक जाती थी। जनरल ने जब इन्वेस्टर्स समिट के कैनवस पर गुजरे दिनों की यह तस्वीर खींची तो सभागार में सामने मौजूद अप्रवासी भारतीयों को सुनहरा भविष्य भी दिखाया। इन्वेस्टर्स समिट के दूसरे दिन एनआरआइ सत्र में केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह और प्रदेश की एनआरआइ राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाती सिंह ने उत्तर प्रदेश को उम्मीदों का प्रदेश बताया।

अब यूपी में कानून-व्यवस्था का राज

जनरल ने कहा कि प्रदेश में अब कानून-व्यवस्था का राज है। प्रदेश के साथ अब उत्तर भारत भी प्रगति कर रहा है। सिंह ने रवांडा और चीन के उदाहरण से बताया कि जिस तरह वहां कुछ घंटों या कुछ दिन में कारोबार की प्रक्रिया पूरी हो जाती है, वैसे ही प्रदेश में ईज ऑफ डूइंग की सुविधा मिलेगी। जनरल ने स्वाती सिंह से उन लोगों को तलाश कर मदद करने को कहा, जो विदेश में कंपनियों के फेल होने से वापस लौट रहे हैं। सिंह ने बताया कि चार साल में 90 हजार से अधिक अप्रवासियों को विदेश से बचा कर लाने के साथ ही कई अन्य तरह से भी एनआरआइ की मदद की जा रही है।

ट्रांसनेशनल इंटरप्रेन्योरशिप की राह पर

स्वाती सिंह ने प्रदेश के सामाजिक आर्थिक विकास में सहयोग के लिए अप्रवासी भारतीयों का आह्वïन किया। उन्होंने कहा कि सत्र का उद्देश्य यही संदेश देना है कि प्रदेश में एफडीआइ व ट्रांसनेशनल इंटरप्रेन्योरशिप के रास्ते खुले हैं और प्रदेश घरेलू न विदेशी निवेश के लिए तैयार है। सिंह ने प्रदेश की औद्योगिक नीति को बिजनेस फ्रेंडली ठहराते हुए कई सेक्टरों के लिए तय नीति की जानकारी दी। उन्होंने एनआरआइ सेल के काम गिनाए, एनआरआइ ग्रीवांस सेल बनाए जाने की जानकारी दी और आश्वस्त किया कि प्रदेश में कारोबार के लिए माहौल बेहतर हुआ है। सिंगल विंडो सिस्टम से सुविधाएं दी जा रही हैं। 

पोर्टल सुलझाएगा एनआरआइ की समस्याएं

प्रदेश से निकल कर विदेश में मुकाम बनाने वाले अप्रवासियों की समस्याएं सुलझाने और उनकी मदद के लिए यूपी एनआरआइ ग्रीवांस रिड्रेसल पोर्टल (यूपीएनआरआइजीएनएस.आइएन) को भी एनआरआइ सत्र में लॉन्च किया गया। केंद्रीय मंत्री वीके सिंह व प्रदेश की एनआरआइ मंत्री स्वाती सिंह ने कहा कि यह पोर्टल प्रदेश सरकार व एनआरआइ के बीच सेतु का काम करेगा। सत्र के दौरान एक लघु फिल्म के जरिये प्रदेश की विशेषताएं दिखाते हुए अप्रवासियों से जड़ों से जुडऩे का आग्रह किया गया।

लखनऊ में बनेगा उत्तर भारत का सबसे बड़ा मॉल

केरल के मूल निवासी व कई देशों में कारोबार करने वाले यूसुफ अली ने बताया कि एनआरआइ राज्यमंत्री स्वाती सिंह के विधानसभा क्षेत्र सरोजनीनगर में वह उत्तर भारत का सबसे बड़ा शॉपिंग मॉल बनावाएंगे। उन्होंने बताया कि करीब पांच हजार लोगों के रोजगार वाले इस प्रोजेक्ट के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहमति दे दी है। अली ने बताया कि जैसे केरल का उनका मॉल देखने कई राज्यों से लोग आते हैं, वैसे ही लखनऊ में बनने वाले इस मॉल को देखने दूर-दूर से लोग आएंगे। अली के मुताबिक नवंबर, 2019 में मॉल का उद्घाटन होगा।

अप्रवासी भारतीय रत्न से पुरस्कृत हुए एनआरआइ

एनआरआइ सत्र में केंद्रीय मंत्री वीके सिंह व प्रदेश की राज्यमंत्री स्वाती सिंह ने प्रदेश से निकल कर विदेश में कदम जमाने वाली 10 विभूतियों को अप्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में डॉ.संहिता अग्निहोत्री, ज्ञानेश्वर आनंद, मधुलिका चौहान, डॉ.संजय मेहरोत्रा, डॉ.तरुण पांडेय, रवि राय, डॉ.अंकित सरीन, अरुण श्रीवास्तव, दिव्या तुली व पं.ज्ञानप्रकाश उपाध्याय शामिल थे।

 

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस