लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में पिछले दिनों पालतू कुत्तों के बेहद हिंसक (Violent Pet Dogs) होने की घटनाओं पर लोग सहम गए हैं। अपने पालकों के प्रति ही बेहद जानलेवा होते जा रहे तीन नस्ल के पालने पर अब रोक लग सकती है।

प्रदेश में पांच हजार से अधिक लोगों के पास खतरनाक नस्ल के कुत्ते हैं और नगर विकास विभाग इनको लेकर बेहद गंभीर हो गया है। नगर विकास विभाग ने शासन में हिंसक प्रजाति के तीन कुत्तों के पालने पर रोक लगाने की मांग की है। इसको लेकर शासन को पत्र लिखा दिया गया है। इसमें पिटबुल (Pitbull) और राटविलर (Rottweiler) जैसी प्रजातियां प्रमुख है।

नगर विकास विभाग ने शासन में तीन हिंसक प्रजाति के कुत्तों के पालने पर रोक लगाने की मांग की है। इसको लेकर शासन को पत्र लिखा दिया गया है। इसमें पिटबुल, रॉटविलर और मैस्टिफ (Mastiff) हैं। इन तीनों के पालने पर रोक लगाने की मांग की गई है। बीते दिनों नगर विकास विभाग के विशेष सचिव राजेन्द्र पनेशिया के नेतृत्व में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया था। 

हिंसक प्रजाति के कुत्तों को पालने से रोक लगाने की मांग

उत्तर प्रदेश में पालतू कुत्तों के हिंसक तथा जानलेवा होने की घटनाओं में बढ़ोतरी के बाद अब नगर विकास विभाग बेहद गंभीर हो गया है। सूबे की राजधानी लखनऊ में बीते दिनों एक पिटबुल नस्ल के एक कुत्ते ने घर में ही बुजुर्ग महिला को इतना काटा कि उनकी मौत हो गई। जिसके बाद हिंसक प्रजाति के कुत्तों को पालने से रोक लगाने की मांग होने लगी थी। शनिवार को मेरठ में भी इसी तरह की हुई घटना के बाद इस मुहिम को और गति दे दी है। अब राज्य में हिंसक नस्ल वाले कुत्तों यानी पिटबुल तथा रॉयविलर के पालने पर रोक लगा सकती है।

उत्तर प्रदेश में पांच हजार से अधिक लोग हैं, जिनके घरों में सिबेरियन, हुसकी, डाबरमैन, पिन्सचर, बाक्सर ब्रीड-724, पिटबुल और रॉटविलर प्रजाति के कुत्ते पाले गए हैं। कुत्तों की प्रजाति को देखते हुए कई नगर निगमों ने रजिस्ट्रेशन शुल्क लगाया है। यह तो लखनऊ में यह पहले से था लेकिन प्रयागराज में इसको नया लागू किया गया है। अकेले लखनऊ में ऐसे 927 लोग हैं, जिनके यहां हिंसक प्रजाति के कुत्ते पले है। इसमें सिबेरियन, हुसकी, डाबरमैन, पिन्सचर तथा बाक्सर ब्रीड प्रजाति 724 लोगों के पास है।

लखनऊ में ही 178 लोग के पास है रॉटविलर

लखनऊ में 178 लोगों ने रॉटविलर पाल हुआ है। यह कुत्ता काफी हिंसक माना जाता है। पिछले दिनों गोमती नगर विस्तार के एक अपार्टमैंट में 10 साल की बच्ची को इस प्रजाति के कुत्ते ने काट लिया था। रॉटविलर ब्रिड के कुत्ते मुख्यत: जर्मनी में पाए जाते हैं। दुनिया की सबसे मशहूर प्रजातियों में से एक है। ये बेहद ताकतवर होते हैं, खासतौर पर इनके जबड़े। इनका प्रयोग रक्षा के लिए किया जाता है। अमूमन इन्हें अजनबी लोग और दूसरे कुत्ते बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं। लखनऊ नगर निगम की एक सूची के अनुसार शहर में 27 लोगों के पास पिटबुल है।

उत्तर प्रदेश में अगर तीन नस्ल के कुत्तों को पालने पर रोक लगाने वाला प्रस्ताव पास हो जाता है तो उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य होगा जहां किसी खास नस्ल के कुत्तों के पालने पर प्रतिबंध लगेगा। इससे पहले कई देश अपने यहां इसको पालने पर प्रतिबंध लगा चुके हैं। न्यूजीलैंड, फ्रांस, बेल्जियम में पिटबुल के पालने पर पाबंदी लगी हुई है। 

Edited By: Dharmendra Pandey