लखनऊ, जेएनएन। पूर्वी उत्तर प्रदेश में 13 जून को दक्षिण पश्चिम मानसून ने दस्तक दी थी। उम्मीद जताई जा रही थी कि जल्द ही राजधानी को भी मानसून अपनी जद में ले लेगा, लेकिन बाराबंकी जो कि लखनऊ से महज 27-28 किलोमीटर ही दूर है, वहां पहुंच कर मानसून ठिठक गया है। यानी लखनऊ वासियों को अभी चार-पांच दिन मानसून का और इंतजार करना पड़ेगा।

मौसम केंद्र लखनऊ के निदेशक जेपी गुप्ता बताते हैं कि बंगाल की खाड़ी में जो सिस्टम बना था, वह कुछ कमजोर हो गया है। इसके चलते मानसून आगे नहीं बढ़ रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अब बंगाल की खाड़ी में विकसित होने वाले सिस्टम से मानसून आगे बढ़ेगा। इसके लिए फिलहाल चार-पांच दिन और इंतजार करना पड़ सकता है। हालांकि, इस बीच बादलों की आवाजाही लगी रहेगी और कुछ स्थानों पर बौछारें पडऩे की भी उम्मीद है। गुरुवार को भी लखनऊ में मौसम ऐसा ही रहने की संभावना है। बुधवार को मौसम सुबह से साफ था। शाम को बदली के साथ ठंडी हवा के झोंकों ने मौसम को खुशगवार बना दिया। राजधानी में अधिकतम तापमान सामान्य से 2.7 डिग्री कम 35.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ, वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य के करीब 26.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राजधानी में कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर गुरुवार को भी भारी बारिश की आशंका है। वहीं, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने गुरुवार को देवरिया, गोरखपुर,संत कबीर नगर, कुशीनगर, महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी व इससे जुड़े इलाकों में भारी बारिश की आशंका व्यक्त की है। शुक्रवार को भी इन इलाकों में भारी बारिश का सिलसिला जारी रहने की आशंका है।

Edited By: Anurag Gupta