लखनऊ, जेएनएन। उप्र लोकसेवा आयोग यानी यूपीपीएससी की आरओ/एआरओ मुख्य परीक्षा 2017 रविवार से शुरू हो गई है। यह इम्तिहान इस बार सिर्फ लखनऊ में 17, 18 व 20 को हो रहा है। शामिल होने वाले परीक्षार्थियों का प्रवेशपत्र सात फरवरी को ही वेबसाइट पर अपलोड किया जा चुका है। इस परीक्षा में उन्हीं अभ्यर्थियों को शामिल होने का अवसर मिल रहा है जिन्होंने प्रारंभिक परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन में किए गए दावों और मुख्य परीक्षा के लिए दी गई सूचना 31 जनवरी 2018 तक निर्धारित अर्हता के अनुसार ही दी है।

सिर्फ लखनऊ में ही इम्तिहान 

समीक्षा अधिकारी व सहायक समीक्षा अधिकारी यानी आरओ-एआरओ मुख्य परीक्षा 2017 के लिए कुंभ मेले के कारण यूपीपीएससी ने प्रयागराज में इस बार परीक्षा केंद्र नहीं बनाए हैं। पहली बार सिर्फ लखनऊ जिले में ही इम्तिहान हो रहा है। परीक्षा पहले सत्र में सुबह 9:30 से 12:30 और दूसरे सत्र में दोपहर दो से शाम पांच बजे तक (केवल सामान्य अध्ययन के प्रश्नपत्र 9:30 से 11:30 बजे तक) संपन्न होगी। परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार ने कहा है ऑनलाइन सूचना दर्ज करने वाले अभ्यर्थियों की जानकारी गलत पाई जाती है या 30 जनवरी 2018 तक निर्धारित अर्हता नहीं धारित करते हैं तो ऐसे अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल न हों। परीक्षण के दौरान अर्हता अनर्ह पाए जाने पर उनका अभ्यर्थन निरस्त कर दिया जाएगा। 

परीक्षा रद कराने को 40वें दिन प्रदर्शन

69 हजार शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा के पहले उत्तर कुंजी वायरल होने का मुद्दा बनाकर अभ्यर्थी 40वें दिन परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी मांग है कि उत्तरकुंजी पहले वायरल होने से इस इम्तिहान का मतलब नहीं रह गया है, इसलिए परीक्षा निरस्त की जाए। सुनील मौर्य ने बताया कि न्याय मिलने तक प्रदर्शन जारी रहेगा। अभ्यर्थियों की मांग है कि खाली पदों पर तत्काल भर्ती की जाए और चयन प्रक्रिया को पारदर्शी बनाया जाए। परीक्षा नियामक कार्यालय के सामने बड़ी संख्या में डटे रहे। 

Posted By: Nawal Mishra