लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा 2022 की प्रारंभिक परीक्षा पास कर चुके अभ्यर्थियों के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार बड़ा मौका लेकर आई है। योगी सरकार सिविल सेवा 2022 की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाले अनुसूचित जाति और सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को लखनऊ, प्रयागराज व दिल्ली के अच्छे कोचिंग संस्थानों से मुख्य परीक्षा की तैयारी कराएगी। इसका पूरा खर्च समाज कल्याण विभाग उठाएगा। इसके लिए अभ्यर्थी विभाग की वेबसाइट या कार्यालय से फार्म लेकर पांच जुलाई तक आवेदन कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश समाज कल्याण विभाग के निदेशक राकेश कुमार ने बताया कि इस योजना का लाभ लेने वाले अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश के निवासी होने के साथ ही उनके परिवार की वार्षिक आय एक लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। विभाग की तरफ से उन्हें निजी कोचिंग या अध्ययन सामग्री खरीदने के लिए 45 हजार और रहने के लिए 10 हजार रुपये दिए जाएंगे। इन मदों की रसीदें उपलब्ध कराने पर यह राशि सीधे उनके खाते में भेजी जाएगी।

निदेशक राकेश कुमार ने बताया कि सिविल सेवा 2022 की मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए अभ्यर्थी समाज कल्याण विभाग की तरफ से संचालित कोचिंग में भी आवेदन कर सकते हैं। यहां उनके पठन-पाठन और रहने खाने की सभी व्यवस्थाएं निश्शुल्क होंगी। एससी-एसटी और ओबीसी वर्ग के छात्र छत्रपति शाहूजी महाराज शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र, भागीदारी भवन लखनऊ और इसी वर्ग की छात्राएं आदर्श परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण केंद्र अलीगंज लखनऊ के लिए आवदेन कर सकती हैं।

वहीं, अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राएं राजकीय आइएएस-पीसीएस कोचिंग केंद्र हापुड़, इसी वर्ग के छात्र संत रविदास आइएएस-पीसीएस परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण केंद्र वाराणसी, डा. बीआर आंबेडकर प्रशिक्षण केंद्र आगरा, डा. बीआर आंबेडकर प्रशिक्षण केंद्र अलीगढ़ और न्यायिक सेवा परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण केंद्र प्रयागराज के लिए आवेदन कर सकते हैं। निदेशक ने बताया कि मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना समाज के सभी वर्गों के लिए संचालित है। इसके तहत समस्त आय वर्ग के अभ्यर्थी मुफ्त कोचिंग की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं।

बता दें कि संघ लोक सेवा आयोग द्वारा बुधवार को घोषित की गई सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2022 में 13 हजार से अधिक उम्मीदवारों ने सफलता पाई है। भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारियों का चयन करने के लिए सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों - प्रारंभिक, मुख्य और साक्षात्कार के रूप में आयोजित की जाती है। प्रारंभिक परीक्षा पांच जून, 2022 को आयोजित की गई थी।

यूपीएससी द्वारा जारी बयान में सभी सफल उम्मीदवारों को सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा 2022 के लिए विस्तृत आवेदन पत्र (डीएएफ-1) के जरिये फिर से आवेदन करने को कहा गया है। आयोग ने कहा कि डीएएफ-1 को भरने और इसे जमा करने की तारीखों और महत्वपूर्ण निर्देशों की घोषणा आयोग की वेबसाइट पर समय आने पर की जाएगी।

Edited By: Umesh Tiwari