लखनऊ, जेएनएन। बिजली विभाग में सामने आए भविष्य निधि घोटाले को लेकर कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर तीखा हमला बोला है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने घोटाले के लिए ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को जिम्मेदार बताते हुए उन्हें तत्काल बर्खास्त कर उनके सहित तत्कालीन प्रबंध निदेशक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग सरकार से की है।

प्रदेश मुख्यालय में रविवार को पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरकार सड़क, सदन और सभाओं में भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस का दंभ भरती रही है। बिजली विभाग के इस घोटाले ने सरकार का चरित्र और चेहरा उजागर कर दिया है। उन्होंने कहा कि गुमनाम पत्र पर हुई जांच के बाद 28 अगस्त 2019 को पुष्टि हो गई थी कि बिजली विभाग के कर्मचारियों के पीएफ का 2600 करोड़ रुपया डिफॉल्टर कंपनी डीएचएफसीएल में निवेश कर दिया गया है। फिर भी सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की।

उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने ट्वीट किया तो छोटे-मोटे कर्मचारियों पर मुकदमा लिखाकर जेल भेज दिया। लल्लू ने कहा कि सपा सरकार में हुई इस डील को भाजपा सरकार ने आगे बढ़ाया। इसके बदले 20 करोड़ रुपये चंदे के रूप में लिये गए। उन्होंने सवाल उठाया कि 26 माह में सरकार ने सपा शासनकाल के तमाम मामलों की जांच कराई तो फिर इसकी क्यों नहीं? प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार जानती थी कि इसमें बड़े लोग शामिल हैं, इसलिए मौन थी।

लल्लू ने आरोप लगाया है कि डीएचएफसीएल वालों का ऊर्जा भवन स्थित मंत्री कार्यालय, सरकारी आवास और मथुरा स्थित घर तक आना-जाना था। इन स्थानों के आगंतुक रजिस्टर को सील कर सीबीआइ को सौंपा जाए तो सब सामने आ जाएगा। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस