लखनऊ, जेएनएन। महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं ने कोरोना के गंभीर मरीज जिन्हें तत्काल चिकित्सीय व्यवस्था नहीं मिल पा रही है। उनके लिए टेलीफोनिक कंसल्टेंट शुरू कर स्टेराइड देने की सलाह दी है। मंगलवार को उन्होंने सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को ये निर्देशित किया है। 

महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं जी एस नेगी ने सभी अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों और  मंडलीय व जिला संयुक्त चिकित्सालय को मंगलवार को निर्देशित किया है कि कोरोना पॉजिटिव रोगी गंभीर रूप से बीमार हैं। ऑक्सीजन सैचुरेशन (94 प्रतिशत) से कम है, श्वसन दर 24/मिनट से अधिक व सांस फूलने जैसी परेशानी हो रही है, मगर संबंधित मरीज को तत्काल चिकित्सालय में भर्ती करने की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही है। इन परिस्थितियों में रोगी के लिए स्टेरॉइड शुरू करने की सलाह, उनकी जान बचाई जा सकती है। ऐसी स्थिति में रोगी को टेलिफोनिक कंसल्टेशन के दौरान स्टेरॉइड शुरू किया जाना चाहिए। मगर इस प्रकार की सलाह किसी एमबीबीएस अथवा उच्चतर डिग्री वाले चिकित्सक के द्वारा रोगी की क्लीनिकल हिस्ट्री की पूरी जानकारी लिए जाने के बाद ही दी जानी चाहिए। इसके मिथाइलप्रेडनीसोलोन अथवा डेक्सामेथासोन नाम की स्टोराइड को दिया जा सकता है। महानिदेशक ने दोनों स्टोराइड की मात्रा का भी निर्देश में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021