लखनऊ, राज्य ब्यूरो। UP Assembly Session 2022: विधान सभा में ई-विधान लागू होने के बाद सदस्यों की हाजिरी अब उनकी मेज पर लगे टैबलेट के जरिये दर्ज होगी। सदन में सदस्यों की उपस्थिति तभी दर्ज होगी जब वे अपने टैबलेट को लागिन कर खोलेंगे। विधान सभा सदस्यों के लिए विधान भवन के तिलक हाल मे आयोजित दो दिवसीय प्रबोधन कार्यक्रम को शनिवार को संबोधित करते हुए विधान सभा अध्यक्ष सतीश महाना ने यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि पहले सदस्यों को हाजिरी लगाने के लिए पीछे जाना पड़ता था लेकिन अब यदि किसी सदस्य ने टैबलेट को चालू कर उपस्थिति नहीं दर्ज कराई तो वह सदन में अनुपस्थित माना जाएगा। चुटकी लेते हुए कहा कि कागज में तो बैकडेटिंग चल जाती थी लेकिन टैबलेट पर नहीं चल पाएगी। यह भी कहा कि जो सदस्य ज्यादा अनुपस्थित होंगे तो उनकी जानकारी मीडिया को भी दी जाएगी ताकि उन्हें यह न महसूस हो कि उनका कहीं जिक्र नहीं हो रहा है। इससे पहले महाना ने सदस्यों को सदन की परंपराओं और कार्यविधियों के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि वर्ष के प्रथम सत्र या नवगठित विधान सभा के प्रथम सत्र का आरंभ राज्यपाल के अभिभाषण से होता है। फिर अभिभाषण पर लाये गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा होती है। बजट सत्र में बजट प्रस्तुत किये जाने के बाद चार दिन उस पर चर्चा होगी। उन्होंने सदस्यों को प्रश्नकाल के बारे में बताया। सदन की कार्यमंत्रणा समिति के दायित्व की जानकारी दी। अध्यक्ष के आसन की गरिमा से भी परिचित कराया। उन्होंने सदस्यों से कहा कि अपने कार्य को प्रदेश भर में पहुंचाने के लिए आपके पास विधान सभा से अच्छा और कोई फोरम नहीं है। सदन में आपकी सक्रियता और आचरण आपके राजनीतिक करियर को बढ़ाने में सहायक होगी।

Edited By: Vikas Mishra